बंगाल चुनाव: लोक गायिका नेहा सिंह राठौर का नया लोकगीत सुर्खियों में, अब ममता बनर्जी को बताया काल

पटना। बिहार की लोक गायिका नेहा सिंह राठौर अक्सर अपनी तंज भरी कविताओं के चलते चर्चा में रहती हैं। बिहार विधानसभा चुनाव के समय ‘बिहार में का बा…’ लोकगीत के जरिये पूरे देश में सुर्खियां बटोरने वाली नेहा सिंह राठौर ने अब पश्चिम बंगाल चुनाव में तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो व मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी को लेकर नया लोकगीत लिखा है।

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर तंज कसते हुए अपने लोकगीत में नेहा ममता बनर्जी को ‘बंगाल का काल’ बताती हैं। नेहा गीत में बीजेपी का ‘राम का मुद्दा’ भी उठा रहीं हैं। बता दें कि नेहा सिंह राठौर सत्ता विरोधी लोक गीतों के लिए जानी जाती हैं। बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान भी उन्‍होंने बिहार में गरीबी, बेरोजगारी व भुखमरी को केंद्र में रखकर राज्‍य की नीतीश कुमार की सरकार को निशाने पर लिया था।

नेहा सिंह राठौर का नया लोकगीत होली के मूड में तथा ममता बनर्जी को केंद्र में रखकर है। नेहा कहतीं हैं- ‘दीदी बंगाल के होई गैलू तू काल, बोलो सा रा रा रा…। बांग्लादेसियन के स्वर्ग बंगाल, अपने लोगन के कैलू कंगाल, बोलो सा रा रा रा…। नेहा के गीत में आगे ममता बनर्जी के गुस्‍सा पर कटाक्ष हैं- ‘दीदी नाके पे गुस्‍सा, काटेलू बवाल, बोलो सा रा रा रा…। गाने में ममता बनर्जी को तानाशाह भी बताया गया है। यह भी कहा गया है कि बंगाल की जनता उनकी रंगाबजी से परेशान है।

Gyan Dairy

नेहा के गीत में बीजेपी के एजेंडा भगवान राम का मुद्दा भी उठाती हैं। ममता को घेरते हुए फरमातीं हैं- ‘खाली दाल-भात से दाल ना गली, हमरे राम के विरोध तोहरा ना फली, बोलो सा रा रा रा…। विदित हो कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह लगातार कहते रहे हैं कि पश्चिम बंगाल में राम का नाम लेना मुश्किल हो गया है।

Share