बंगाल सियासत: बीजेपी के बाद टीएमसी ने निर्वाचन आयोग पर साधा निशाना, कही ये बात

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव की रणभेरी बज चुकी है। अपनी सत्ता बचाने के लिए टीएमसी हर मुमकिन कोशिस कर रही है। वहीं केन्द्र की सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी पहली बार राज्य में कमल खिलाने के लिए प्रयासरत है। इसी क्रम में बुधवार को नंदीग्राम में चुनाव प्रचार के दौरान घायल हुईं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की सुरक्षा को लेकर सियासत तेज हो गई है।

टीएमसी ने पार्टी सुप्रीमो ममता बनर्जी की सुरक्षा को लेकर निर्वाचन आयोग को जमकर आड़े हाथों लिया। टीएमसी सांसद डेरेक ओ ब्रॉयन ने कहा कि निर्वाचन आयोग जिम्मेदारी से नहीं बच सकता। राज्य में विधानसभा चुनाव की घोषणा के बाद आयोग कानून-व्यवस्था की स्थिति के लिए जिम्मेदार है। तृणमूल नेताओं ने दावा किया कि यह हमला तृणमूल सुप्रीमो की जान लेने का गहरा षड्यंत्र था। उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा ने पड़ोसी राज्यों से असामाजिक तत्वों को हिंसा करने के लिए नंदीग्राम भेजा था।

Gyan Dairy

तृणमूल के प्रतिनिधि मंडल ने यहां आयोग के अधिकारियों से मुलाकात करने के बाद निर्वाचन आयोग पर भाजपा नेताओं के इशारे पर काम करने का आरोप लगाया। तृणमूल महासचिव पार्थ चटर्जी ने कहा कि बंगाल में कानून-व्यवस्था की स्थिति अच्छी थी, लेकिन चुनावों की घोषणा के बाद कानून-व्यवस्था ईसी (निर्वाचन आयोग) की जिम्मेदारी बन गई। निर्वाचन आयोग ने राज्य पुलिस के डीजीपी को हटा दिया और अगले ही दिन उन पर(बनर्जी) हमला हो गया। निर्वाचन आयोग ने वीरेंद्र को पश्चिम बंगाल के पुलिस महानिदेशक पद से तत्काल प्रभाव से हटाने का मंगलवार को आदेश दिया था और उनकी जगह पी नीरजनयन को नियुक्त किया था।

Share