दिल्ली हाईकोर्ट से चिराग को बड़ा झटका, चाचा पशुपति को संसदीय दल का नेता बनाने को चुनौती देने वाली याचिका खारिज

नई दिल्ली। लोक जनशक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान को दिल्ली हाईकोर्ट से बड़ा झटका लगा है। दिल्ली हाईकोर्ट ने चिराग द्वारा चाचा पशुपति पारस को लोकसभा में लोक जनशक्ति पार्टी का नेता बनाने का लोकसभा अध्यक्ष के फैसले के खिलाफ दाखिल याचिका खारिज कर दी है। लोजपा पर अपनी दावेदारी जताते हुए चिराग पासवान ने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला के फैसले को चुनौती देते हुए उसे रद्द करने की मांग की थी।

दिल्ली हाईकोर्ट में जस्टिस रेखा पल्ली ने सुनवाई के दौरान याचिका को आधारहीन बताते हुए कहा कि इसमें कोई दम नजर नहीं आ रहा है। न्यायालय इस मामले में याचिकाकर्ता सांसद चिराग पासवान पर जुर्माना लगाना चाहती थी लेकिन बाद में उनके वकील के आग्रह पर ऐसा नहीं किया। चिराग पासवान ने उच्च न्यायालय में दाखिल याचिका में लोकसभा अध्यक्ष के 14 जून के परिपत्र को रद्द करने की मांग की गई थी। इस परिपत्र में चिराग के चाचा पशुपति पारस का नाम लोकसभा में लोजपा के नेता के तौर पर दर्शाया गया था।

Gyan Dairy

चिराग पासवान की ओर से दाखिल याचिका में कहा गया था कि पार्टी विरोधी गतिविधि और शीर्ष नेतृत्व को धोखा देने के कारण लोक जनशक्ति पार्टी ने पहले ही पशुपति कुमार पारस को पार्टी से निकाल दिया था। साथ ही कहा गया कि सांसद पारस लोजपा के सदस्य नहीं हैं। याचिका में यह भी कहा गया था कि लोजपा के राष्ट्रीय कार्यकारिणी में कुल 75 सदस्य हैं और इनमें से 66 सदस्य हमारे (चिराग गुट) साथ हैं और सभी ने हलफनामा दिया है। सांसद चिराग ने कहा था कि उनके चाचा पशुपति कुमार पारस के पास कोई ठोस आधार नहीं है और हमारे दल के सदस्य नहीं है।

Share