सुप्रीम कोर्ट से वोडाफोन आइडिया को बड़ा झटका, दीवालिया होने की कगार पर पहुंची कम्पनी

नई दिल्ली। निजी क्षेत्र की दूरसंचार कंपनी वोडाफोन आइडिया दीवालिया होने की कगार पर पहुंच गई है। सुप्रीम कोर्ट ने समायोजित सकल राजस्व गणना में त्रुटियों के सुधार के लिए दायर दूरसंचार कंपनियों की याचिका खारिज कर दी है। शीर्ष अदालत के इस फैसले से कर्ज में डूबी वोडाफोन आइडिया के फंड जुटाने की मुहिम कमजोर पड़ सकती है। माना जा रहा है कि इसके बाद वोडाफोन आइडिया के पास दिवालिया होने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा है।

दूरसंचार बाजार में जारी प्रतिस्पर्द्धा को देखते हुए कंपनी अभी ज्यादा टैरिफ नहीं बढ़ा सकती है। ऐसे में यदि कंपनी को सरकार की ओर से कोई बड़ा राहत पैकेज नहीं मिलता है, तो वोडाफोन आइडिया के लिए अगले साल अप्रैल के बाद अपना वजूद बचाए रखना मुश्किल हो सकता है। बाजार में बने रहने के लिए वोडाफोन आइडिया के पास कम विकल्प बचे हैं। समायोजित सकल राजस्व (एजीआर) पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले से कंपनी की फंड जुटाने की कोशिशें प्रभावित हो सकती हैं।’

Gyan Dairy

वोडाफोन आइडिया को अगले साल अप्रैल तक 24 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा का भुगतान करना है। फंडिंग के बिना कंपनी के लिए इसे पूरा कर पाना कठिन है। यदि कंपनी के पास सारे विकल्प खत्म होते हैं, तो दूरसंचार क्षेत्र में दो कंपनियां- रिलायंस जियो और एयरटेल बच जाएंगी। शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने वोडाफोन आइडिया और एयरटेल की याचिका खारिज कर दी थी। इन्होंने एजीआर) गणना में त्रुटियों के सुधार के लिए याचिका दायर की थी।

Share