बड़ी खबर: अब रिजर्व बैंक के दायरे में आएंगे कोऑपरेटिव बैंक, मोदी कैबिनेट ने लगाई मुहर

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में कैबिनेट की बैठक आज हुई। इस बैठक में अंतरिक्ष विज्ञान और बैकों को लेकर एक अध्यादेश को मंजूरी दी गई। इसके बाद अब सरकारी बैंक (अर्बन को-ऑपरेटिव बैंक हो या मल्टी स्टेट को-ऑपरेटिव बैंक) रिजर्व बैंक के सुपर विजन पॉवर में आ जाएंगे। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि 1482 शहरी सहकारी बैंकों और 58 बहु-राज्य सहकारी बैंकों सहित सरकारी बैंकों को अब भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की सुपर विजन के तहत लाया जा रहा है। आरबीआई की शक्तियां जैसे अनुसूचित बैंकों पर लागू होती हैं, वैसे ही सहकारी बैंकों पर भी लागू होंगी। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि आरबीआई के सुपरविजन 1540 सहकारी बैकों को लाने के फक्से से खाताधारकों को फायदा मिलेगा। इन बैंकों में 8.6 करोड़ से अधिक जमाकर्ताओं को आश्वासन देगा कि इन बैंकों में जमा 4.84 लाख करोड़ रुपये सुरक्षित रहेंगे।

 

Gyan Dairy
Share