UA-128663252-1

बिहार विधानसभा चुनाव: NDA में शामिल हुई VIP, BJP ने अपने कोटे से दी 11 सीटें

नई दिल्ली। बिहार में विधानसभा चुनाव का बिगुल बज गया है। ऐसे में एनडीए और महागठबंधन के दल आपस में सीटों का बंटवारा कर रहे हैं। चिराग पासवान के नेतृत्व वाली एलजेपी ने एनडीए का दामन तो थाम रखा है लेकिन बिहार में उसने जेडीयू के खिलाफ उम्मीदवार उतारने का ऐलान कर दिया है। ऐसे में कई सीटों पर मुकाबला त्रिकोणीय होने की उम्मीद है।

वहीं विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) भी महागठबंधन से अलग होकर एनडीए में शामिल हो गई है। बिहार विधानसभा चुनाव में मुकेश सहनी की वीआईपी पार्टी 11 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। बुधवार को बीजेपी ने वीआईपी के साथ गठबंधन का ऐलान करते हुए अपने कोटे की 121 सीटों में से 11 सीटें देने की घोषणा की है। बीजेपी ने भविष्य में मुकेश सहनी को एक MLC सीट देने की भी बात कही है।

एनडीए में शामिल होने के बाद मुकेश सहनी ने कहा कि जिस गठबंधन से हमने राजनीतिक करियर की शुरुआत की थी, एक बार फिर से हम उसी घर में आ गए हैं। यह मेरे लिए काफी खुशी की बात है। सहनी ने कहा कि आज से हम पूरी मजबूती से बिहार एनडीए के साथ हैं। हमें नीतीश कुमार को एक बार फिर से मुख्यमंत्री बनाने का काम करना है। बता दें कि 2015 के विधानसभा चुनाव में वीआईपी बीजेपी के साथ थी। बुधवार को पटना में आयोजित एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में वीआईपी के एनडीए में शामिल होने की जानकारी दी गई। इस दौरान बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल, बिहार चुनाव प्रभारी देवेंद्र फडणवीस और सुशील मोदी मौजूद थे।

वीआईपी को मिलीं ये सीटें

Gyan Dairy

1 ब्रह्मपुर
2 बोचहा
3 गौरा बोराम
4 सिमरी बख्तियारपुर
5 सुगौली
6 मधुबनी
7 केवटी
8 साहेबगंज
9 बलरामपुर
10 अली नगर
11 बनियापुर

इस दौरान बीजेपी के कद्दावर नेता सुशील मोदी ने कहा कि इस बार के चुनाव में एनडीए से सबसे अधिक अति पिछड़ा समाज के लोगों को टिकट दिया जा रहा है। मोदी ने कहा कि बिहार में आज 16100 मुखिया अति पिछड़ा समाज के हैं, यह एनडीए सरकार की ही देन है। एनडीए सरकार ने ही पंचायतों में आरक्षण की व्यवस्था लागू की। सुशील मोदी ने कहा कि लालू सरकार ने तो 23 साल तक पंचायतों का चुनाव ही नहीं कराया था।

Share