बिहार विधानसभा चुनाव: NDA में लगभग बनी सहमति, बीजेपी-जेडीयू को मिलेंगी इतनी सीटें

नई दिल्ली। बिहार में विधानसभा चुनाव का बिगुल बज चुका है। इसके साथ ही एनडीए में सीट बंटवारे पर भी सहमति बनने की बात सामने आ रही हैं। बीजेपी और जनता दल यूनाइटेड बराबर-बराबर सीटों पर चुनाव लड़ेगी और बाकि सीटों को लोक जन शक्ति पार्टी और हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के लिए छोड़ा जाएगा।

दोनों पार्टियों के संगठन ने इस बात पर सहमति जताई कि जेडीयू और बीजेपी दोनों को 105 से 110 के बीच सीटों पर चुनाव लड़ना चाहिए। शेष बची सीटों को सहयोगियों के बीच विभाजित करना चाहिए। वहीं जदयू कैडर इस बात पर जोर दे रहा है कि पार्टी के पास एक सीट ही सही लेकिन भाजपा से अधिक सीटें होनी चाहिए।

उधर बीजेपी नेतृत्व ने ये ऐलान कर दिया कि चुनाव में पीएम नरेंद्र मोदी और सीएम नीतीश कुमार दो चेहरे होंगे। बीजेपी का मानना है कि इस बार बिहार में जेडीयू के खिलाफ सत्ता विरोधी लहर है इसलिए बीजेपी को अधिक सीट न भी मिलें तो कम से कम बराबर संख्या में सीटों पर चुनाव लड़ना चाहिए।

बीजेपी ने ये साफ किया कि लोजपा को भी इस फार्मूले पर सहमत होना होगा, ताकि गठबंधन अन्य सहयोगियों को भी पर्याप्त सीटें मिल सकें। सीट आवंटन और टिकट वितरण का कार्य करते समय एनडीए में शामिल हम और राजद के कुछ ऐसे नेता जिन्होंने पिछला चुनाव जीता था उन पर भी विचार करना है।

Gyan Dairy

वहीं लोजपा मांग कर रही है कि उसे लोकसभा चुनावों में जितनी सीटें मिली थी, उससे छह गुना सीटें मिलनी चाहिए। लोजपा ने चेतावनी दी है कि अगर उसकी मांगें पूरी नहीं हुईं तो वह तीन चरण में होने वाले चुनाव में बिहार की 243 सीटों में से 143 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। हालांकि पार्टी कह रही रही है कि पार्टी सिर्फ जदयू के खिलाफ अपने कैंडिडेट्स को खड़ा करेगी।

बीजेपी एनडीए को टूट से बचाने और एलजेपी के एनडीए से अलग होकर जदयू से संभावित किसी भी त्रिकोणीय मुकाबले को रोकने के लिए चिराग पासवान से सीट शेयरिंग पर बातचीत कर रही है। आपको बता दें कि चिराग पासवान जेडीयू और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के मुखर आलोचक रहे हैं।

Share