बिहार विधानसभा अध्यक्ष चुनाव: विजय सिन्हा बने स्पीकर, 12 वोटों से हारे अवध बिहारी चौधरी

पटना। बिहार विधानसभा चुनाव में एनडीए की जीत के बाद नीतीश कुमार मुख्यमंत्री बनें और अपनी कैबिनेट गठित की। विधानसभा के शीतकालीन सत्र के तीसरे दिन आज विधानसभा अध्यक्ष का चुनाव हुआ। स्पीकर पद के चुनाव में भाजपा के सीनियर विधायक विजय सिन्हा को जीत मिली है। उनके मुकाबले महागठबंधन के उम्मीदवार अवध बिहारी चौधरी को 12 वोटों से हार का सामना करना पड़ा। हालांकि इस दौरान विपक्ष ने सदन में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की उपस्थिति को लेकर हंगामा किया। विपक्ष ने कहा कि नीतीश कुमार विधायक नहीं हैं, इसलिए वो सदन से बाहर जाएं।

बिहार विधानसभा के लिए भाजपा के विधायक विजय सिन्हा को स्पीकर चुना गया है। महागठबंधन के उम्मीदवार अवध बिहारी चौधरी को हार मिली है। विजय सिन्हा के पक्ष में 126 वोट पड़े। वहीं, महागठबंधन उम्मीदवार को 114 विधायकों का समर्थन रहा। इस दौरान राजद नेता और राज्यसभा सदस्य मनोज झा ने भी नीतीश कुमार की मौजूदगी पर सवाल उठाया है। उन्होंने कहा है कि विधानसभा में लोकतंत्र शर्मसार हुआ है। जनादेश का अपहरण किया जा रहा है। झा ने कहा, सदन में नीतीश कुमार क्यों मौजूद हैं, जबकि वह विधायक ही नहीं हैं। विपक्ष ने मांग की है कि नीतीश कुमार को सदन से बाहर किया जाए, क्योंकि वह विधायक नहीं हैं।

Gyan Dairy

राजद नेता तेजस्वी यादव ने सदन ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की मौजूदगी को लेकर आपत्ति जताई। इसके अलावा, अशोक चौधरी और मुकेश सहनी की भी उपस्थिति पर आपत्ति जताई गई। इस दौरान नारेबाजी भी की गई। हालांकि, सदन में प्रोटेम स्पीकर जीतन राम मांझी ने कहा कि नीतीश कुमार बिहार के मुख्यमंत्री हैं, इसलिए वह सदन में मौजूद रह सकते हैं। मांझी ने कहा, ‘नीतीश कुमार स्पीकर पद के लिए हो रहे चुनाव में हिस्सा नहीं लेंगे, लेकिन वह सदन में रहेंगे।’ बता दें कि नीतीश कुमार विधानसभा के सदस्य नहीं हैं। वह बिहार विधान परिषद के सदस्य हैं।

Share