Bihar Election Results: कांग्रेस का साथ तेजस्वी यादव को पड़ा भारी? जानें हैरान करने वाली वजह

पटना। बिहार में 243 विधानसभा सीटों के रुझान आ चुके हैं। इसमें एनडीए 128 सीटों पर बढ़त बनाए हुए है, जबकि महागठबंधन 105 सीटों पर आगे है। वहीं, चिराग पासवान की लोजपा दो और अन्य दल 11 सीटों पर बढ़त बनाए हुए हैं। अगर राजनीतिक दलों की बात करें तो भाजपा सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है। वह 72 सीटों पर आगे चल रही है। दूसरे नंबर पर राजद है, जिसने 65 सीटों पर बढ़त बना रखी है। जदयू 47 सीटों पर आगे चल रही है तो कांग्रेस की झोली में 21 सीटें जाती नजर आ रही हैं। हालांकि, वामपंथी दल 19 सीटों पर बढ़त बनाए हुए हैं। इसके अलावा वीआईपी 6 सीटों पर आगे है।

जानकारी के मुताबिक, बिहार विधानसभा चुनाव में राजद ने 144 सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारे। इनमें पार्टी 65 सीटों पर आगे चल रही है। वहीं, महागठबंधन की सहयोगी कांग्रेस ने 70 सीटों पर ताल ठोकी, लेकिन वह सिर्फ 21 सीटों पर ही आगे है।
महागठबंधन में शामिल वामपंथी दलों ने मजबूती दिखाई है। उन्होंने 29 सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारे, जिनमें 19 सीटों पर लेफ्ट पार्टियां आगे चल रही हैं। बीजेपी ने 110 सीटों पर प्रत्याशी उतारे, जिनमें 72 सीटों पर आगे चल रही है। जदयू ने 115 सीटों पर ताल ठोकी, जिनमें से 49 सीटों पर पार्टी ने बढ़त बना रखी है।

Gyan Dairy

दरअसल, 2015 में कांग्रेस ने 41 सीटों पर चुनाव लड़ा था और 27 सीटें जीती थीं। अब 2020 में कांग्रेस ने महागठबंधन के खाते से 70 सीटों पर चुनाव लड़ा, लेकिन अभी वह सिर्फ 21 सीटों पर ही आगे चल रही है। ऐसे में माना जा रहा है कि अगर कांग्रेस पिछली बार की तरह 41 सीटों पर ही चुनाव लड़ती और बाकी सीटें राजद के लिए छोड़ती तो नतीजा कुछ और हो सकता था।

Share