मणिपुर में बहुमत साबित करने में सफल हुए Biren Singh, कांग्रेस विधायकों ने सदन में फेंकी कुर्सियां

मणिपुर विधानसभा में भारी हंगामे के बीच भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के नेतृत्व वाली गठबंधन सरकार ने विश्वास मत जीत लिया. सीएम N. Biren Singh विधानसभा में बहुमत साबित करने में सफल रहे. राज्य सरकार ने 28-16 के अंतर से विश्वास मत हासिल किया.

विधानसभा के एकदिवसीय सत्र में मैराथन बहस के बाद मुख्यमंत्री ने विश्वास प्रस्ताव पेश किया।  विपक्ष ने सदन में भारी हंगामा किया, क्योंकि स्पीकर ने उनके अविश्वास प्रस्ताव को नहीं लिया. विपक्षी नेताओं ने स्पीकर के खिलाफ प्रदर्शन किया और उन पर कुर्सियां फेंकी.

विश्वास मत हासिल करने के बाद मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने कहा कि हमने ध्वनि मत से विश्वास मत जीता है. अध्यक्ष ने जो कुछ भी किया वह नियमानुसार है. विपक्षी विधायक कम संख्या में थे.

वहीं कांग्रेस नेता और पूर्व मुख्यमंत्री ओकाराम इबोबी सिंह ने कहा कि मणिपुर में कानून का शासन नहीं है. हम मत विभाजन की मांग कर रहे थे. वे (भाजपा) इसे पसंद नहीं करते हैं. सत्तारूढ़ पार्टी के भीतर, बहुत से लोग इस सरकार को पसंद नहीं करते हैं.

कांग्रेस के 8 विधायकों ने व्हिप का उल्लंघन किया

कांग्रेस के आठ विधायकों ने पार्टी व्हिप का उल्लंघन करते हुए सदन की कार्यवाही में भाग नहीं लिया. मणिपुर की 60 सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस के 24 विधायक हैं. तीन विधायकों के इस्तीफे और दल-बदल कानून के तहत चार विधायकों को अयोग्य ठहराए जाने के बाद अब सदन में सदस्यों की संख्या 53 है.

Gyan Dairy

पिछले महीने से मंडरा रहे थे संकट के बादल

बता दें कि बीजेपी नीत सरकार के सामने 17 जून को राजनीतिक संकट उपस्थित हो गया था क्योंकि छह विधायकों ने समर्थन वापस ले लिया, वहीं बीजेपी के तीन विधायक पार्टी छोड़कर कांग्रेस में शामिल हो गए.

हालांकि बीजेपी के शीर्ष नेताओं और मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड के संगमा के हस्तक्षेप के बाद नेशनल पीपल्स पार्टी (एनपीपी) के चार विधायक बाद में गठबंधन में वापस आ गए. संगमा एनपीपी के सुप्रीमो हैं. कांग्रेस के विधायक केशम मेघचंद्र सिंह ने अविश्वास प्रस्ताव पेश किया था.

Share