UA-128663252-1

बॉलीवुड ड्रग केस: रिया चक्रवर्ती को मिली सशर्त जमानत, भाई शौविक अभी भी रहेंगे जेल में

नई दिल्ली। बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत मौत से जुड़े ड्रग्स मामले में एक्ट्रेस रिया चक्रवर्ती को बॉम्बे हाईकोर्ट से जमानत मिल गई है। हालांकि रिया के भाई शौविक को अभी जेल में ही रहना होगा। सुशांत सिंह ड्रग केस में बॉम्बे हाईकोर्ट ने आज यानी बुधवार को रिया चक्रवर्ती, सैमुअल मिरांडा और दीपेश सावंत को जमानत दे दी, मगर शौविक चक्रवर्ती और अब्दुल बासित परिहार की जमानत अर्जी खारिज कर दी। इन सभी को सुशांत से जुड़े ड्रग्स के मामले में एनसीबी ने गिरफ्तार किया है।

बॉम्बे हाईकोर्ट ने रिया चक्रवर्ती को 1 लाख रुपये के निजी मुचलके पर जमानत दी है। कोर्ट ने कहा है कि रिया को 10 दिनों में एक बार पुलिस स्टेशन जाकर हाजिरी लगानी होगी और जेल से रिहा होने के बाद अपना पासपोर्ट भी जमा करना होगा। हाईकोर्ट ने कहा कि वह बिना अनुमति के विदेश यात्रा पर नहीं जा सकती हैं और मुंबई छोड़न से पहले जांच अधिकारी को सूचित करना होगा।

इससे पहले मंगलवार को सुशांत सिंह राजपूत से जुड़े ड्रग्स केस में स्पेशल एनडीपीएस कोर्ट ने रिया चक्रवर्ती, शौविक चक्रवर्ती और अन्य की न्यायिक हिरासत की अवधि 20 अक्टूबर तक बढ़ा दी थी। पिछली बार विशेष अदालत ने रिया की न्यायिक हिरासत की अवधि 6 अक्टूबर तक बढ़ा दी थी। 8 सितंबर को एनसीबी की गिरफ्तारी के बाद रिया चक्रवर्ती को 22 सितंबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया था।

Gyan Dairy

रिया की जमानत याचिका इससे पहले दो बार निचली अदालतों द्वारा खारिज की जा चुकी थी। वहीं, नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) ने एक्ट्रेस रिया चक्रवर्ती, उनके भाई शौविक और ड्रग्स मामले में गिरफ्तार अन्य आरोपियों की जमानत याचिकाओं का कड़ा विरोध करते हुए बॉम्बे हाई कोर्ट से कहा था कि समाज को, खासकर युवाओं को कड़ा संदेश दिए जाने की आवश्यकता है जिससे कि वे नशीले पदार्थो का सेवन न करें। इन लोगों को अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत की जांच के दौरान सामने आए ड्र्रग्स से संबंधित मामले में गिरफ्तार किया गया है।

29 सितंबर को बॉम्बे हाईकोर्ट के न्यायमूर्ति सारंग वी कोटवाल ने अभियोजन और बचाव पक्ष की दलीलों को सुनने के बाद अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। एनसीबी की ओर से अतिरिक्त महाधिवक्ता अनिल सिंह ने न्यायालय से कहा था कि सामाजिक स्थिति और विधिक ध्येय की उस पृष्ठभूमि को ध्यान में रखना होगा, जिसके तहत नारकोटिक्स ड्रग्स एंड साइकोपेट्रिक सब्सटेंस अधिनियम-1985 बनाया गया है। उन्होंने तर्क दिया कि अब तक गिरफ्तार किए गए सभी आरोपी व्यक्ति एक-दूसरे से जुड़े हुए हैं और यह एक सिंडिकेट है। बचाव पक्ष के अधिवक्ता सतीश मानेशिंदे ने तर्क दिया कि अभिनेत्री केवल अपने प्रेमी के लिए ड्रग्स की खरीद में शामिल थी, इसलिए मामले में धारा 27 ए लागू नहीं की जा सकती है।

Share