blog

जीएसटी : लागू होने के मजह एक महीने बाद ही रिश्वत मामले में अधिकारी हुआ गिरफ्तार

Spread the love

जीएसटी को लागू हुए अभी महज एक महीने हुए हैं लेकिन भ्रष्टाचार का एक बड़ा मामला सामने आया है। सीबीआई ने रिश्वत लेने के आरोप में जीएसटी काउंसिल के एक अधिकारी को गिरफ्तार किया है।

सीबीआई का कहना है कि अधीक्षक मनीष मल्होत्रा और अन्य अधिकारी व्यापारियों पर कार्रवाई न करने के बदले उनसे मोटी रिश्वत लेते थे।

नवनिर्मित जीएसटी परिषद के एक अधीक्षक सुपरिटेंडेंट को सीबीआई ने अपने करीबी सहयोगियों के जरिये रिश्वत लेने के आरोप में गिरफ्तार किया है। आरोप है कि एक प्राइवेट टैक्‍स कंसल्‍टेंट मानस पात्रा ने सरकारी अफसरों से रिश्‍वत ली।

अब सीबीआई ने मल्‍होत्रा और पात्रा को गिरफ्तार कर लिया है। गौरतलब है कि यह ऐसा पहला मामला है जब जीएसटी परिषद के एक अधिकारी को गिरफ्तार करने का पहला मामला है।

मानस पात्रा मल्‍होत्रा की तरफ से व्‍यापारियों से संपर्क करता था और मासिक/त्रैमासिक आधार पर रिश्‍वत की रकम चेक, एनईएफटी और नकद के जरिये लेता था। सीबीआई के अनुसार मानस पात्रा ने मल्‍होत्रा के लिए पिछले कुछ दिनों में भारी रिश्‍वत ली है।

पात्रा ने रिश्वत को छिपाने के लिए पैसे अपने खाते में जमा कर दिए और बाद में आईसीआईसीआई बैंक में मल्होत्रा की पत्नी शोभना और उनकी बेटी ऐयूशी के एचडीएफसी बैंक खाते में पैसा ट्रांसफर कर दिया।

You might also like