कोरोना काल में ऑक्सीजन की कमी को लेकर केंद्र व दिल्ली सरकार आमने-सामने, जानें किसने क्या कहा

नई दिल्ली। कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर में ऑक्सीजन की चार गुना अधिक मांग को लेकर दिल्ली की केजरीवाल सरकार और बीजेपी के बीच जमकर वाकयुद्ध हो रहा है। बीजेपी ने दिल्ली सरकार पर झूठ बोलने का आरोप लगाया है। वहीं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा कि ”मेरा गुनाह-मैं अपने 2 करोड़ लोगों की सांसों के लिए लड़ा जब आप चुनावी रैली कर रहे थे, मैं रातभर जाग कर ऑक्सीजन का इंतजाम कर रहा था। लोगों को ऑक्सीजन दिलाने के लिए मैं लड़ा, गिड़गिड़ाया लोगों ने ऑक्सीजन की कमी से अपनों को खोया है। उन्हें झूठा मत कहिए, उन्हें बहुत बुरा लग रहा है।”

दिल्ली में अप्रैल तथा मई में कोविड-19 की दूसरी लहर का बहुत बुरा असर हुआ था। इस दौरान शहर के विभिन्न अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी के कारण रोजाना कई लोगों की मौत हुई थी। भाजपा ने शुक्रवार को आरोप लगाया कि कोरोना की दूसरी लहर के दौरान मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने राजधानी दिल्ली में ऑक्सीजन की जरूरत से चार गुना अधिक मांग की थी और उनके इस झूठ के कारण कम से कम 12 राज्यों में ऑक्सीजन की आपूर्ति बाधित हुई।

Gyan Dairy

भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिल्ली में ऑक्सीजन का ऑडिट करने के लिए बनाई एक कमेटी की रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि मुख्यमंत्री ने ”चार गुना झूठ बोलकर” जघन्य अपराध किया है। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस महामारी की दूसरी लहर के दौरान ऑक्सीजन को लेकर जिस प्रकार की राजनीति अरविंद केजरीवाल ने की, उसका पर्दाफाश ऑक्सीजन ऑडिट पैनल की रिपोर्ट में हुआ है।

Share