देश में हर दूसरा बच्चा यौन उत्पीड़न का शिकार, सर्वे में चौंकाने वाला खुलासा

बच्चों के साथ यौन उत्पीड़न की  घटनाएं बढ़ती जा रही हैं। मासूमों के साथ उत्पीड़न करने वाले सबसे ज्यादा अपने ही हैं। एक सर्वे में चौंकाने वाला खुलासा हुआ है।  देशभर में 12 से 18 साल की उम्र के 45,000 बच्चों के बीच हुए सर्वे में खुलासा हुआ है कि हर दूसरा बच्चा यौन उत्पीड़न का शिकार होता है।

वर्ल्ड विजन इंडिया की ओर से देश के 186 जिलों में जागरूकता मुहिम चलाई जा रही है। बकौल थॉमस  हमारे क्षेत्रीय कार्यक्रमों के साथ ही इस अभियान को भी अमल में लाया जाएगा. हम क्षेत्रीय स्तर पर स्वास्थ्य सेवाएं, खासकर कुपोषण और जन्म के शुरुआती दिनों में होने वाली बीमारी, शिक्षा, बाल अधिकार और बाल संरक्षण के क्षेत्र में काम करते हैं. उन्होंने कहा कि हमारे ये क्षेत्रीय कार्यक्रम देश के 186 जिलों में संचालित हैं। थॉमस कहते हैं कि इस अभियान से समाज के हर वर्ग के लोगों को जोड़ा जाएगा ताकि बच्चों के लिए सुरक्षित वातावरण सुनिश्चित किया जा सके।

बच्चों के यौन उत्पीड़न को लेकर यह खुलासा ‘वर्ल्ड विजन इंडिया’ के सर्वे में हुआ है। संस्था ने देशभर के विभिन्न हिस्सों के 45,844 बच्चों से बाचतीत की। जिसमें बच्चों ने खुद अपने साथ यौन जुल्म की दास्तां बयां की। सर्वे में  पता चला कि  हर पांच में से एक बच्चा खुद को सुरक्षित नहीं महसूस करता।  संस्था के राष्ट्रीय निदेशक चेरियन थॉमस कहते हैं कि हमने  2021 तक बाल यौन शोषण को पूरी तरह खत्म करने के लिए मुहिम शुरू की है। ताकि बड़े पैमाने पर जनजागरूकता फैलाकर बच्चों पर जुल्म को रोका जा सके। थॉमस कहते हैं कि संगठन की मुहिम इट टेक्स द वर्ल्ड टू एंड वॉयलेंस अगेंस्ट चिल्ड्रेन के तहत देश के 25 राज्यों और एक केंद्र शासित क्षेत्र में रहने वाले एक करोड़ बच्चों को यौन शोषण से मुक्ति दिलाना है।

Gyan Dairy

 

Share