चिराग पासवान बोले- मैं ही हूं LJP का राष्ट्रीय अध्यक्ष , पहले भी पार्टी तोड़ने की कोशिस कर चुके हैं चाचा

नई दिल्ली। चिराग पासवान और उनके चाचा पशुपति पारस के बीच लोक जनशक्ति पार्टी में वर्चस्व की जंग तेज हो गई है। इस बीच चिराग पासवान ने विरोधियों पर करारा प्रहार किया है। चिराग पासवान ने इमोशनल अटैक करते हुए कहा कि जब मेरे पिता (स्वर्गीय रामबिलास पासवान) अस्पताल में एडमिट थे, उस समय भी कुछ लोगों ने पार्टी को तोड़ने की कोशिस की थी। चिराग के मुताबिक ‘तब मेरे पिता (रामबिलास पासवान) ने पार्टी के नेताओं से यह बात कही थी। उन लोगों में मेरे चाचा पशुपति नाथ पारस भी शामिल थे। कुछ लोग संघर्ष के लिए तैयार नहीं थे, लेकिन हमें उससे गुजरना होगा।’

चिराग पासवान ने कहा, ‘सदन के नेता का चुनाव ससंदीय समिति का फैसला होता है। मौजूदा सांसद इस बारे में फैसला नहीं ले सकते। ऐसी खबरें हैं कि मुझे पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद से हटा दिया गया है। लेकिन पार्टी के संविधान के मुताबिक राष्ट्रीय अध्यक्ष तभी हट सकता है, जब उसकी मौत हो गई हो या फिर उसने खुद इस्तीफा दे दिया हो।’ चिराग पासवान ने कहा कि यह सब कुछ एक साजिश के तहत किया गया है। उन्होंने कहा कि यह साजिश भी ऐसे वक्त में कई गई, जब मैं बीमार था। यहां तक कि मैंने अपने अंकल से संपर्क करने का भी प्रयास किया था, लेकिन बात नहीं हो सकी।

Gyan Dairy
Share