मालदार महकमे के लिए दिल्ली में मंत्रियों ने डाला डेरा, देवभूमि की लॉबिंग पॉलीटिक्स से परेशान CM त्रिवेंद्र रावत

उत्तराखण्ड के अधिकतर मंत्री दिल्ली में डेरा डाले हुये हैं और सभी अपनी अपनी लॉबिंग करते नज़र आ रहे हैं. बीजेपी आलाकमान से मिलने के साथ ही सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत पर दबाव बढ़ाने की कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है. विधायको के साथ उत्तराखण्ड सदन में सीएम लगातर बैठक कर रहे हैं. बैठक में विधायक अपनी अपनी सेटिंग के लिए मुख्यमंत्री से लेकर बीजेपी के दिग्गज नेताओं से मुलाक़ात करते नज़र आ रहे हैं. क़रीबी सूत्रों कि मानें तो CM त्रिवेंद्र सिंह रावत ने PM Modi और शाह से मुलाक़ात कर सीधे तौर पर कहा कि मुझे पसंद के मंत्री नहीं दिये गये में कैसे काम करूंगा. मुझपर कई तरीके से दबाव बनाने की कोशिश भी की जा रही है. क़रीबी सूत्रों कि मानें तो मोदी और शाह की ओर से कहा गया कि मंत्री भले ही कोई भी हों आप अपने हिसाब से पद बाटों, मगर लक्ष्य एक ही है करप्शन के ख़िलाफ़ ज़ीरो टॉलरेंस।

अमित शाह से त्रिवेंद्र ने यह साफ किया कि उन पर दबाव बनाने की कोशिश की जा रही है और त्रिवेंद्र रावत ने यह भी कहा कि में इतने दबाव में काम नहीं कर सकता, हालांकि अमित शाह ने उनको आश्वस्त किया कि आप अपने हिसाब से काम करो चाहे जो हो भ्रष्टाचार का एक भी मामला सामने नहीं आना चाहिए. इसके अलावा उन्होंने भ्रष्टाचार पर भी सख़्त नियंत्रण रखने को कहा। इसके अलावा वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी, गृह मंत्री राजनाथ सिंह, वित्त मंत्री अरुण जेटली एवं शहरी विकास मंत्री वेंकैया नायडू से भी मुलाक़ात की हालांकि इस वक़्त सीएम के सलाहकार इतना ज़्यादा ग़ैर तजुर्बेकार नज़र आ रहे हैं कि न तो उन्हें बात करते आ रहा है और न ही उन्हें लोगों से अप्वाईंटमेंट लेकर लोगों से मिलना, पूरी संसद में चलते फिरते लोगों से मिलना, हालांकि नई कुर्सी और नए सलाहकार के बीच सीधे साधे त्रिवेंद्र किस तरह से सामंजस्य बिठाते हैं इसका इंतज़ार करना होगा.

प्रधानमंत्री के अलावा त्रिवेंद्र रावत गृह मंत्री राजनाथ सिंह, केंद्रीय शहरी विकास मंत्री वेंकैया नायडू और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से भी मिले। संबंधित मंत्रियों को उन्होंने राज्य की आवश्यकताएं बताईं तो उन्हें हर संभव मदद का भरोसा दिया गया। नई दिल्ली स्थित संसद भवन में बुधवार को मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से शिष्टाचार भेंट की। त्रिवेंद्र सिंह रावत ने प्रधानमंत्री मोदी को राज्य की चुनौतियों से अवगत कराया तो पीएम मोदी ने भी मुख्यमंत्री को आश्वस्त किया है कि केंद्र सरकार पूरी तरह से उत्तराखण्ड के साथ हैं।

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने मुलाकात के दौरान आश्वस्त किया है कि उत्तराखंड को वित्तीय मामलों में केन्द्र सरकार का पूरा सहयोग मिलेगा। इसके अलावा केंद्रीय शहरी विकास मंत्री वेंकैया नायडू ने भी भरोसा दिया है कि उत्तराखंड की ओर से जो प्रस्ताव अमृत योजना के अंतर्गत भेजा जाएगा, उसमें केंद्र सरकार की ओर से धन की कोई कमी नहीं आने दी जाएगी।

Gyan Dairy

सीएम त्रिवेंद्र रावत, हाथों और कानों पर फोन लगाए त्रिवेंद्र सिंह रावत बार बार कह रहे नो नो नो, जी हां, न मुलाक़ात न संवाद न ही कोई संदेश, लेकिन जिस तरहे से उनके सहयोगी मीडिया के साथ सामंजस्य तक बनाने को तैयार नहीं. अब CM त्रिवेंद्र रावत की बेचैनी तो साफ उनके चेहरे पर नज़र आ रही है उनके साथ मौजूद विधायक और मंत्री किस फल की आस लिये दिल्ली में दरबार सजा कर बैठें है वह तो पूरा होता नहीं दिख रहा. हालांकि कुछ लोग तो डिप्टी सीएम तक के सपने आंखों में पालते नज़र आ रहे हैं.

 

Share