blog

दिल्ली हाईकोर्ट की तल्ख टिप्पणी,कहा, दूसरा 1984 नहीं होने दे सकते हिंसा प्रभावि​त क्षेत्रों में जाएं सीएम और सिसौदिया

दिल्ली हाईकोर्ट की तल्ख टिप्पणी,कहा, दूसरा 1984 नहीं होने दे सकते हिंसा प्रभावि​त क्षेत्रों में जाएं सीएम और सिसौदिया
Spread the love

नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ जारी हिंसा लेकर दिल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई जारी है। सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट ने तल्ख लहजे में कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया को हिंसाग्रस्त इलाके का दौरा करना चाहिए। जज ने कहा कि आपके जाने से लोगों में विश्वास बढ़ेगा।

सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट ने कहा कि हम देश में दूसरा 1984 नहीं होने दे सकते हैं। इस मामले पर जस्टिस मुरलीधर सुनवाई कर रहे हैं। सुनवाई के दौरान उन्होंने दिल्ली पुलिस की कार्रवाई पर आश्चर्य व्यक्त किया। साथ ही उन्होंने सॉलिसिटर जनरल से दिल्ली पुलिस कमिश्नर को विवादित बयान देने वाले बीजेपी नेताओं के खिलाफ एफआईआर करने की सलाह देने के लिए भी कहा है।

उत्तर पूर्वी दिल्ली में हिंसा पर सुनवाई के दौरान हाई कोर्ट ने कहा कि बाहर के हालात बहुत ही खराब हैं। इसके अलावा, दिल्ली हिंसा मामले पर हाईकोर्ट में बीजेपी नेता कपिल मिश्रा का बयान भी सुनाया गया। इस दौरान सॉलिसिटर जनरल, डीसीपी देव और सभी वकील मौजूद रहे।

हाईकोर्ट ने सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता, डीसीपी (अपराध) से कहा कि क्या उन्होंने भाजपा नेता कपिल मिश्रा का कथित तौर पर नफरत फैलाने वाले भाषण का वीडियो क्लिप देखा है? बाद में उस क्लिप को अदालत कक्ष में चलाया गया।

वीडियो देखने के बाद कोर्ट ने सॉलिसीटर जनरल से कहा कि वे पुलिस आयुक्त से भाजपा के नेताओं द्वारा कथित तौर पर नफरत फैलाने वाले भाषण देने के मामले में प्राथमिकी दर्ज करने के लिए कहें।

You might also like