UA-128663252-1

यूपी में जातीय दंगा कराने की साजिश, सीएए की दर्ज पर वेबसाइट बनकर कर रहे थे प्लानिंग

लखनऊ। हाथरस केस को लेकर पूरे देश में सियासत चमकाने के लिए सभी राजनीतिक पार्टियां सक्रिय हो गयी हैं। इस केस के जरिए कुछ अराजकतत्वों के द्वारा यूपी में जातीय दंगा कराने की साजिश रची जा रही है। यूपी सरकार का दावा है कि नागरिकता संशोधन कानून की तर्ज पर यूपी के जगह जगह हिंसा की साजिश रची जा रही है। इसके लिए डिजिटल प्लेटफॉर्म, सोशल मीडिया आदि का सहारा लिया जा रहा है।

प्रदेश सरकार की ओर से दावा किया गया है कि हाथरस की घटना के बाद राज्य में अचानक कई ऐसी वेबसाइट बनकर तैयार हो गईं। जिनका मकसद जातीय तौर पर लोगों को भड़काना है। इन्हीं में से एक जस्टिस फॉर हाथरस नाम से वेबसाइट है, जो सरकार के सबसे पहले निशाने पर आई है।

जब सरकार को इस बारे में भनक लगी, तो कई वेबसाइट खुद ही रात-ओ-रात बंद हो गईं। हालांकि, सुरक्षा एजेंसियों के पास इन सभी वेबसाइट के कंटेंट उपलब्ध हैं। सरकार का दावा है कि इस तरह की वेबसाइट का मुख्य लक्ष्य सीएम, पीएम और सरकार की छवि को खराब करना है।

Gyan Dairy

वेबसाइट पर फर्जी आईडी से कई लोगों को जोड़ा गया। साथ ही इसमें दंगे कैसे करें और फिर दंगों के बाद कैसे बचें, इसके कानूनी उपाय की जानकारी वेबसाइट पर दी गई है। वहीं, यह मामला खुलासा होने के बाद पुलिस ने जांच तेज कर दी है। इसके साथ ही हाथरस में केस दर्ज कर लिया गया है।

 

Share