एलजेपी में घमासान: चुनाव आयोग पहुंचा पारस गुट, 5 बजे चिराग रखेंगे अपना पक्ष

पटना। लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) कब्जे की जंग और तेज हो गई है। चाचा पशुपति कुमार पारस ने खुद को राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष निर्वाचित घोषित कर दिया है। वहीं पार्टी के संस्थापक रामबिलास पासवान के बेटे चिराग पासवान ने इसे असंवैधानिक बताया है। फिलहाल पशुपति पारस गुट चुनाव आयोग से मिलने पहुंच गया है। वहीं शाम पांच बजे चिराग गुट आयोग के सामने अपना पक्ष रखेगा।

जानकारी के मुताबिक लोजपा के पारस व चिराग गुट आज केन्द्रीय चुनाव आयोग से मिलेंगे। पारस गुट को आयोग ने चार बजे का तो चिराग गुट को पांच बजे का समय दिया है। पारस गुट के मुताबिक राष्ट्रीय कार्य समिति कुल 71 सदस्यों में से उसे 56 सदस्यों का समर्थन प्राप्‍त है। उधर, चिराग गुट की ओर से राजू तिवारी ने भी बहुमत के समर्थन का दावा किया है।

एलजेपी के पारस गुट ने गुरुवार को पटना में सांसद सूरजभान सिंह के आवास पर बैठक कर पशुपति कुमार पारस को अपना राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष निर्वाचित घोषित कर दिया। इसके बाद पारस गुट शुक्रवार को प्रदेश कार्यकारिणी की घोषणा करेगा। इसके लिए पशुपति कुमार पारस के आवास पर बैठक बुलाई गई है। पार्टी पर कब्‍जे की जंग में यह बड़ा कदम है। एलजेपी का आधार बिहार में होने के कारण बिहार के लिए कार्यकारिणी की घोषणा पारस गुट का बिहार एलजेपी पर कब्‍जे की बड़ी कोशिश है। इस गुट ने पार्टी के बिहार कार्यालय पर पहले ही कब्‍जा कर लिया है।

Gyan Dairy

इस मामले को चिराग पासवान असंवैधानिक बता रहे हैं। उनके अनुसार पशुपति कुमार पारस को पार्टी अध्यक्ष बनाने के लिए बुलाई गई बैठक ही असंवैधानिक थी। इसमें राष्ट्रीय कार्यकारी के सदस्यों की न्यूनतम उपस्थिति तक नहीं थी। चिराग के अनुसार राष्ट्रीय कार्यकारिणी के 90 से अधिक सदस्‍यों में से केवल नौ ने पारस को अध्यक्ष चुना।

Share