कोरोना: देश में संक्रमित मरीजों की संख्या 27892 तक पहुंची, अब तक 872 की मौत, महाराष्ट्र में हालात भयावह

नई दिल्ली। दुनिया में कोरोना वायरस के मामलों में रोजाना बढ़ोतरी हो रही है। चीन के वुहान से दुनिया में फैले इस वायरस ने सबसे अधिक अमेरिका को प्रभावित किया है, जहां अब तक 50 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। इसके अलावा भारत में भी कोरोना का कहर देखने को मिल रहा है। देश में अब तक कोरोना के पॉजिटिव मामलों की संख्या 27 हजार के पार पहुंच चुकी है। स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के अनुसार, भारत में कोरोना के अब तक 27,892 मरीज हैं। वहीं, अब तक 872 लोगों की मौत हो चुकी है। इसके अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए से एक बार फिर से मुख्यमंत्रियों के साथ लॉकडाउन को लेकर चर्चा करेंगे।

केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, देशभर में कोरोना पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या 27,892 हो गई है, जिसमें 20,8357 सक्रिय हैं, 6185 लोग स्वस्थ हो चुके हैं या उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है और 872 लोगों की मौत हो चुकी है।

स्वास्थ्य मंत्रालय के रविवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक महाराष्ट्र में एक दिन में 811 नए मरीज मिले। पिछले 6 दिन में 71 लोगों की मौत हुई है यानी औसतन हर दो घंटे में एक मरीज दम तोड़ रहा है। वहीं, संक्रमितों के मामले में गुजरात एक महीने में सातवें से दूसरे नंबर पर पहुंच गया है। अहमदाबाद में रविवार को 18 लोगों की कोरोना से मौत हो गई। यहां औसतन हर ढाई घंटे में एक मौत हो रही है।

Gyan Dairy

कोरोना से सर्वाधिक प्रभावित जिलों में शुमार इंदौर में सक्रिय वायरस की प्रजाति के अधिक घातक होने की आशंका जताई जा रही है। मध्य प्रदेश के इस जिले में इलाज कर रहे चिकित्सकों का कहना है कि कोविड के कारण ऊंची मृत्यु दर को देखते हुए मरीजों के नमूनों को जांच के लिए राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान (एनआईवी) पुणे भेजा जाएगा। इसके बाद यह पता चल जाएगा कि इंदौर में कोहराम मचाने वाली कोविड-19 की प्रजाति देश के अन्य हिस्सों में सक्रिय वायरस की प्रजाति से ज्यादा घातक है या नहीं।

पीएम मोदी की मुख्यमंत्रियों के साथ चर्चा आज
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को कोरोना संकट पर देशभर के मुख्यमंत्रियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग पर चर्चा करेंगे। संक्रमण के चलते जारी लॉकडाउन के दौरान उनकी मुख्यमंत्रियों के साथ यह तीसरी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग होगी। बैठक में तीन मुद्दों पर चर्चा होनी है। एक, राज्यों में कोरोना संक्रमण की मौजूदा स्थिति और रोकथाम के लिए किए जा रहे प्रयास। दूसरे 20 अप्रैल से गृह मंत्रालय द्वारा प्रदत्त छूटों के क्रियान्वयन पर राज्यों का फीडबैक और तीसरे, तीन मई के बाद की क्या रणनीति हो। हालांकि इस दौरान राज्यों की तरफ से भी अपने मुद्दे रखे जा सकते हैं। इनमें आर्थिक पैकेज की मांग प्रमुख हैं।

Share