blog

दिल्ली: अवैध रूप से बनी है निजामुद्दीन मरकज, परमीशन सिर्फ ढाई मंजिल की, बनी है 9 मंजिला इमारत

दिल्ली: अवैध रूप से बनी है निजामुद्दीन मरकज, परमीशन सिर्फ ढाई मंजिल की, बनी है 9 मंजिला इमारत
Spread the love

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के दौरान जहां पूरा देश लॉक डाउन था, वहीं दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज में हजारों देश विदेश से आये जमाती छिपे बैठे थे। जमातियों को बाहर निकालने के बाद इसकी जांच करवाई जा रही है। जिसपर अब एक बड़ा खुलासा हुआ है। बताया जा रहा है कि निजामुद्दीन मरकज की बिल्डिंग ही पूरी तरह से अवैध बनाई गयी है।

बताया गया कि निजामुद्दीन स्थित तबलीगी जमात की मरकज में बड़े स्तर पर अवैध निर्माण किया गया है। इस अवैध निर्माण की शिकायत पिछले छह साल से की जा रही थी, लेकिन दक्षिणी निगम के अधिकारी कार्रवाई करने से बच रहे थे। मरकज प्रबंधन प्रशासन की अनदेखी का फायदा उठाकर लगातार अवैध निर्माण करता रहा। नगर निगम के अधिकारियों ने बताया कि जमात के पास ढाई मंजिल की इजाजत थी लेकिन उन्होंने नौ मंजिला इमारत खड़ी कर दी।

जंगपुरा आरडब्ल्यूए अध्यक्ष मोनू चड्ढा ने बताया कि उन्होंने एक एनजीओ की मदद से पहले दक्षिणी दिल्ली नगर निगम के अधिकारियों को इस इमारत में हो रहे अवैध निर्माण की शिकायत दी। लेकिन जब निगम अधिकारियों ने शिकायत पर कोई कार्रवाई नहीं की तो उन्होंने तत्कालीन उपराज्यपाल, दिल्ली सरकार और गृह मंत्रालय तक से शिकायत की, लेकिन छह वर्ष बीत जाने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं हुई।

नगर निगम के अधिकारियों ने शुरुआती जांच के बाद पाया कि मरकज के प्रबंधकों को कई बार इमारत के निर्माण वाली जगह के मालिकाना हक के दस्तावेज देने को कहा गया। लेकिन प्रबंधकों ने कभी भी निगम को मालिकाना हक के दस्तावेज नहीं सौंपे। ऐसे में इस जमीन के मालिकाना हक पर भी सवाल उठने लगे हैं। आखिर यह जमीन किसकी है और तबलीगी जमात के लोगों को किसने दी है।

जिस जगह पर मरकज की इमारत बनी है, वह घनी आबादी वाला इलाका है। यहां गलियां बहुत संकरी हैं। अगर किसी दिन इमारत में आग लग गई तो बड़ा हादसा होगा, क्योंकि इस इमारत में हर समय हजारों लोग मौजूद रहते हैं। मरकज के प्रबंधकों के पास इमारत के निर्माण के लिए फायर एनओसी है या नहीं इसकी भी जांच की जा रही है। विभाग के अधिकारियों का कहना है कि अगर एनओसी नहीं हुई तो जल्द ही इस इमारत के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

You might also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *