दिवाली पर हांफेगी दिल्ली, चरम पर होगा वायु प्रदूषण

नई दिल्ली। देश में बढ़ते प्रदूषण को लेकर लोंगो को काफी समस्याओं का सामना कर पड़ रहा है। घर से बाहर निकलने ही लोंगो में सांस लेने में तकलीफ हो रही है। प्रदूषण से छाई हुई धुंध ने लोगों को प्रभावित किया है। बढ़ते प्रदूषण ने उत्तरी राज्यों की हवा को प्रदूषित हो रही है।

राजधानी दिल्ली में स्मॉग की चादर छाने से लोगो। को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। कई इलाकों में पराली जलाने से भी काफी दिक्कतें आ रही है। दिल्ली, उतर प्रदेश, हरियाणा, राजस्थान और मध्य प्रदेश जैसे राज्यों में भी हवा की गुणवत्ता का स्तर दिन—ब—दिन गिरता चला जा रहा है। देश की राजधानी दिल्ली में तो सांस लेना मुश्किल हो रहा है।

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के मुताबिक, शुक्रवार सुबह दिल्ली में स्थिति काफी खतरनाक बनी हुई है। शुक्रवार को दिल्ली के आनंद विहार इलाके में वायु गुणवत्ता स्तर 422,आरके पुरम में 407, द्वारका में 421 और बवाना में 430 है। मौसम विज्ञानियों के अनुसार यहीं हालात यह रहें तो आने वाले दिनों में दिल्ली-एनसीआर में जीवन बेहद मुश्किल हो जायेगा। यही नहीं सभी उत्तरी राज्यों में दिवाली से पहले प्रदूषण बढ़ने की बात कही जा रही है। उतर प्रदेश भी वायु प्रदूषण के मामले में देश में सबसे ज्यादा पभावित राज्यों की श्रेणी में आ गया है। बागपत में शुक्रवार को वायु शुद्धता 412 पहुंच गया।

Gyan Dairy

वायु प्रदूषण के चलते लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। घर से बाहर निकलने में लोगों को खराब वायु के चलते सांस लेने में दिक्कत हो रही है। बरेली में भी यही स्थिति बनी हुई है। यहां धुंध के कारण लोंगो को सांस लेना मुश्किल हो रहा है। वायु गुणवत्ता के मानक 400 के पार पहुंच गया है। ग्रीनपीस इंडिया की रिपोर्ट में भारत के सबसे प्रदूषित शहरों में उत्तर प्रदेश के छ़ह राज्य भी शामिल थे। इनमें बरेली के साथ—साथ गाजियाबाद, नोएडा, मुरादाबाद, प्रयागराज, फीरोजाबाद का नाम भी शामिल है।

Share