भारत और नेपाल के अच्छे संबंध को दशार्ते हुए केपी ओली ने दिया चीन को करारा जवाब बोला- दखलअंदाजी मंजूर नहीं

नई दिल्ली। नेपाल और भारत के मधुर रिश्तों को और भी मजबुत बनाने के लिए नेपाल के पीएम केपी ओली ने चीन को खरी खोटी सुनाते हुए उसे सतर्क किया है। नेपाल में हो रही आंतरिक सियासी उथल-पुथल के बीच पीएम केपी शर्मा ओली ने मंगलवार को एक ओर जहां भारत के साथ संबंधों को बहुत अच्छा बताया, वहीं चीन को भी सख्त लहजे में संदेश दिया कि वह किसी और के आदेशों को नहीं मानता है। बीते कुछ समय से नेपाल की राजनीति में चीन की दखलअंदाजी पर हुए नेपाली पीएम ओली ने सख्त लहजे में कहा कि हमें अपनी स्वतंत्रता से प्यार करते हैं, हमें अपनी आजादी पसंद है।

हम दूसरों के निर्देशों का पालन नहीं करते हैं, हम स्वतंत्र रूप से अपने मामलों पर निर्णय लेते हैं। बाहरी हस्तक्षेप नहीं चाहते हैं। इसके साथ ही नेपाली पीएम ओली ने एक इंटरव्यू के दौरान कहा कि साल 2021 एक ऐसा साल होगा जब हम यह ऐलान कर सकते हैं कि नेपाल और भारत के बीच कोई समस्या नहीं है। नेपाल और भारत के साथ रिश्‍ते काफी अच्‍छे हैं। नेपाल के विदेश मंत्री के नई दिल्ली के दौरे से पहले नेपाल के पीएम ओली ने कहा है कि भारत या चीन के साथ संबंधों में उनका देश संप्रभुता की बराबरी से समझौता नहीं करेगा। ओली ने भारत और चीन के बीच जारी विवाद का समाधान कराने की भी पेशकश की। ओली ने कहा,अगर हम उनकी सहायता करने में मददगार साबित हो सकते हैं तो हम तैयार हैं।

Gyan Dairy

 

Share