वसूली कांड में बर्खास्त इंस्पेक्टर सचिन वाझे का बयान दर्ज करेगी ईडी, अदालत ने दी इजाजत

मुंबई। एनसीपी नेता और महाराष्ट्र के पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। मनी लॉन्ड्रिंग मामले में मुंबई की एक अदालत ने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) को बर्खास्त पुलिस अधिकारी सचिन वाझे का बयान दर्ज करने की इजाजत दे दी। कल यानी शनिवार को ईडी के अफसर तलोजा जेल में सजिन वाझे का बयान दर्ज करेंगे।

प्रवर्तन निदेशालय ने धनशोधन मामले में अब तक अनिल देशमुख के दो सहयोगियों निजी सचिव संजीव पलांडे और निजी सहायक कुंदन शिंदे को गिरफ्तार किया है। ईडी ने दावा किया है कि पूछताछ में संजीव और कुंदन ने कबूल किया है कि वाझे ने मुंबई में ऑर्केस्ट्रा बार मालिकों से 4.70 करोड़ रुपये वसूले थे। यह रकम कुंदन शिंदे को दो किस्तों में सौंपी गई थी। ईडी ने विशेष एनआईए अदालत से वाजे से पूछताछ की अनुमति मांगते हुए कहा था कि वह अपराध शाखा के पूर्व सहायक पुलिस निरीक्षक को पलांडे और शिंदे के सामने बैठाकर सवाल-जवाब करना चाहती है।

Gyan Dairy

बता दें कि देश के सबसे अमीर उद्योगप​ति मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया के बाहर विस्फोटक लदी कार मिलने और मनसुख हिरेन की हत्या के मामलों में सचिन वाझे की गिरफ्तारी हुई थी। इस मामले में मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह को उनके पद से हटा दिया गया था। पद से हटाए जाने के बाद परमबीर सिंह ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पत्रकर आरोप लगाया था कि गृहमंत्री अनिल देशमुख ने सचिन वाजे को मुंबई के बार और रेस्तरां से हर महीने 100 करोड़ रुपये से अधिक की उगाही करने का निर्देश दिया था। सिंह के आरोपों के संदर्भ में बंबई उच्च न्यायालय के आदेश पर सीबीआई ने प्रारंभिक जांच की। इसके बाद ईडी ने देशमुख और अन्य के खिलाफ मामला दर्ज किया था।

Share