प्रवर्तन निदेशालय ने माल्या, मोदी और चोकसी से की 13,100 करोड़ की रिकवरी

नई दिल्ली। बैंको हजारों करोड़ का चूना लगाने वाले जालसाजों पर प्रवर्तन निदेशालय का चाबुक चलने लगा है। प्रवर्तन निदेशालय ने शुक्रवार को बताया कि भारतीय स्टेट बैंक के नेतृत्व में एक संघ ने भगोड़े विजय माल्या, नीरव मोदी और मेहुल चोकसी के शेयरों की बिक्री से 792.11 करोड़ रुपये की वसूली की है। प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (पीएमएलए) के तहत इन संपत्तियों को जब्त किया गया है।

ईडी ने बताया कि विजय माल्या, नीरव मोदी और मेहुल चोकसी की संपत्ति की बिक्री से अब कुल 13,109.17 करोड़ की वसूली हो चुकी है। बता दें कि बंद हो चुकी किंगफिशर एयरलाइंस के मालिक माल्या पर विभिन्न बैंकों का 9,000 करोड़ रुपये से अधिक का बकाया है। इसके अलावा हीरा कारोबारी नीरव मोदी और मेहुल चोकसी, जो पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) ऋण धोखाधड़ी मामले में मुख्य आरोपी है, पर 13,000 करोड़ का नुकसान पहुंचाने का आरोप है।

इसके अलावा, पीएनबी बनाम नीरव मोदी मामले में भगोड़ा आर्थिक अपराध न्यायालय द्वारा बैंकों को 1,060 करोड़ की संपत्ति की अनुमति दी गई है और ईडी द्वारा भगोड़े आर्थिक अपराधी अधिनियम के प्रावधानों के तहत 329.67 करोड़ जब्त किए गए हैं। 1 जुलाई, 2021 को, पूर्वी मोदी, जो नीरव मोदी की बहन हैं, ने अपने विदेशी बैंक खाते से ईडी को अपराध की आय से 17.25 करोड़ हस्तांतरित किए हैं।

Gyan Dairy

 

Share