उद्योपति गौतम अडाणी की मुश्किलें बढ़ीं, फ्रीज हुए 43500 करोड़ के शेयर, जानें वजह

नई दिल्ली। देश के दूसरे सबसे अमीर व्यवसाई गौतम अडाणी को बड़ा झटका लगा है। गौतम अडानी के नेतृत्व वाले अडानी समूह के तीन विदेशी फंड्स अलबुला इन्वेस्टमेंट फंड, क्रेस्टा फंड और एपीएमएस इन्वेस्टमेंट फंड के खाते नेशनल सिक्योरिटीज डिपॉजिटरी लिमिटेड ने फ्रीज कर दिए हैं। इन फंड्स में अडाणी समूह की चार कंपनियों के 43,500 करोड़ रुपये से ज्यादा मूल्य के शेयर हैं। यह खबर सामने आने के बाद गौतम अडानी के नेतृत्व वाली कंपनियों के शेयरों में भारी गिरावट दर्ज की गई।

जानकारों का मानना है कि गौतम अडानी की कई कंपनियों में लोअर सर्किट तक लग गया है। शेयर बाजार में कारोबार की शुरुआत होते ही अडाणी एंटरप्राइज के शेयर में 10 फीसदी की गिरावट आई, जिससे लोअर सर्किट लग गया। इसके बाद अडाणी ग्रीन में भी लोअर सर्किट लगा। बिजनेस इनसाइडर की रिपोर्ट के मुताबिक, शुरुआती एक घंटे के कारोबार के भीतर कंपनी के शेयरों में 20 फीसदी तक की गिरावट आई, जजिसकी वजह से अडाणी की संपत्ति को 7.6 अरब डॉलर यानी 55 हजार करोड़ रुपये की कमी आई है।

Gyan Dairy

जिन तीन कंपनियों के खाते फ्रीज हुए हैं, उन तीनों की एडानी एंटरप्राइजेज में 6.82 फीसदी, अडाणी ट्रांसमिशन में 8.03 फीसदी, अडाणी टोटल गैस में 5.92 फीसदी और अडाणी ग्रीन में 3.58 फीसदी हिस्सेदारी है। एनएसडीएल की वेबसाइट के अनुसार, इन खातों को 31 मई को या उससे पहले ही फ्रीज कर दिया गया था। खाते फ्रीज होने से ये फंड अब न तो अपने खाते के शेयर बेच सकते हैं और न ही नए शेयर खरीद सकते हैं। ये तीन फंड्स बाजार नियामक सेबी में विदेशी पोर्टफोलियो इन्वेस्टर्स के तौर पर रजिस्टर्ड हैं और मॉरीशस से अपना कामकाज चलाते हैं।  इन कंपनियों पर ओनरशिप के बारे में पर्याप्त जानकारी न देने की वजह से कार्रवाई की गई है। प्रीवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत बेनिफिशियल ऑनरशिप के बारे में पूरी जानकारी देनी जरूरी है।

Share