अनुपम मिश्र : गांधीवादी और देश में पर्यावरण पर काम शुरू करने वाले पहले शख्‍स नहीं रहे

प्रख्यात पर्यावरणविद् वयोवृद्ध और गांधीवादी अनुपम मिश्र नहीं रहे. उन्होंने सोमवार तड़के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में अंतिम सांस ली. वह 68 वर्ष के थे. अनुपम मिश्र के परिवार के एक करीबी सूत्र ने बताया कि मिश्र पिछले साल भर से कैंसर से पीड़ित थे.

मिश्र के परिवार में उनकी पत्नी, एक बेटा, बड़े भाई और दो बहनें हैं. मिश्र गांधी शांति प्रतिष्ठान के ट्रस्टी एवं राष्ट्रीय गांधी स्मारक निधि के उपाध्यक्ष थे. उन्‍होंने पर्यावरण के साथ भाषा पर काम किया. वह हिंदी के मशहूर कवि भवानी प्रसाद मिश्र के पुत्र थे.

उनकी अन्य चर्चित किताबों में ‘राजस्थान की रजत बूंदें’ और हमारा पर्यावरण’ है. ‘हमारा पर्यावरण’ देश में पर्यावरण पर लिखी गई एकमात्र किताब है.

Gyan Dairy

मिश्र को इंदिरा गांधी राष्ट्रीय पर्यावरण पुरस्कार, जमना लाल बजाज पुरस्कार सहित कई पुरस्कारों से नवाजा जा गया. जल संरक्षण पर लिखी गई उनकी किताब ‘आज भी खरे हैं तालाब’ काफी चर्चित हुई और देशी-विदेशी कई भाषाओं में उसका अनुवाद हुआ. पुस्तक की लाखों प्रतियां बिक चुकी है.

अनुपम मिश्र ऐसे पहले व्यक्ति हैं जिन्होंने देश में पर्यावरण पर काम शुरू किया. उस समय सरकार में पर्यावरण का कोई विभाग तक नहीं था. उन्होंने गांधी शांति प्रतिष्ठान में पर्यावरण कक्ष की स्थापना की. अनुपम मिश्र, जयप्रकाश नारायण के साथ दस्यु उन्मूलन आंदोलन में भी सक्रिय रहे.

Share