किसान नेताओं ने  कहा, प्रदर्शन से हिल गई मोदी सरकार, रची झूंठी साजिश

नई दिल्ली। लगातार हो रहे किसान आंदोलन के बीच गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर परेड में हुए उत्पात के बाद किसान नेताओं ने आपात बैठक की है। इस बैठक में किसानों ने कहा कि आंदोलन से सरकार हिल गई थी। इसलिए किसानों के खिलाफ ये गंदी साजिश रची गई। संयुक्त किसान मोर्चा की आपात बैठक के बाद ये संयुक्त स्टेटमेंट जारी किया गया है।

बुधवार को 32 किसान संगठनों की आपात बैठक बुलाई गई। बैठक में बलबीर सिंह राजेवाल और जगजीत सिंह डालेवाल के साथ तमाम नेता मौजूद थे। किसान संगठनों की बैठक में आए निष्कर्ष के मुताबिक जो संगठन किसान आंदाेलन की शुरूआत से 15 दिनों के बाद अपना अलग विराध स्थल स्थापित किया था वे संयुक्त रूप से प्रदर्शन करने वाले संगठनों का हिस्सा नहीं थे।

Gyan Dairy

जब किसान संगठनों ने दिल्ली में ट्रैक्टर परेड का कार्यक्रम घोषित किया तो दीप सिद्धू जैसे लोग दूसरे किसान संगठनों के साथ मिलकर शांतिपूर्ण आंदोलन को विफल करने की कोशिश की। किसान संगठनों का दावा है कि साजिश के तहत दूसरे किसान संगठनों और साजिशकर्ताओं ने घाेषणा किया था कि वे रिंग रोड पर मार्च करेंगे और लाल किले पर झंडा फहराएंगे। उन संगठनों ने किसान मजदूर संघर्ष समिति के ट्रैक्टर मार्च से दो घंटा पहले ही मार्च करना शुरू कर दिया।

Share