किसान आंदोलनः चक्का जाम के बाद किसान उठायेंगे ये कदम

नई दिल्ली। नए कृषि कानूनों को लेकर किसानों का आंदोलन जारी है। किसान संगठनों और सरकार के बीच तनातनी जारी है। वहीं, किसान आर-पार की लड़ाई का ऐलान कर चुके हैं। इसके लिए दिल्ली की सीमाओं पर किसानों का आंदोलन आज 77वें दिन भी जारी है।

नए कृषि कानूनों के खिलाफ अपने आंदोलन को तेज करते हुए प्रदर्शनकारी किसान यूनियनों ने 18 फरवरी को चार घंटे के राष्ट्रव्यापी रेल रोको अभियान की घोषणा की है। संयुक्त मोर्चा ने अब किसान ट्रैक्टर रैली और देशभर में चक्का जाम करने के बाद अब 18 फरवरी को दोपहर 12 बजे से शाम 4 बजे तक रेल रोको अभियान चलाने का फैसला किया है।

इस फैसले के बाद अब सरकार के लिए बड़ी मुश्किल खड़ी हो सकती है। इसके अलावा संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक में चार अहम प्वाइंटों पर फैसला लिया गया है। 12 फरवरी से राजस्थान के सभी रोड पर टोल प्लाजा को टोल मुक्त करवाया जाएगा। इसके अलावा 14 फरवरी को पुलवामा हमले में शहीद जवानों के बलिदान को याद किया जाएगा।

Gyan Dairy

इसके लिए देश भर में कैंडल मार्च में मशाल जुलूस और अन्य कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। संयुक्त मोर्चा ने 16 फरवरी को किसान मसीहा सर छोटू राम की जयंती के दिन देशभर में किसान एकजुटता दिखाने का फैसला किया है।

 

Share