महिला आईएएस अफसर ने सरकारी अस्पताल में कराया प्रसव, लोग जमकर कर रहे तारीफ

नई दिल्ली। हमारे देश में सरकारी अस्पताल और सरकारी स्कूलों को दोयम दृष्टि से देखा जाता है। कोई भी सक्षम व्यक्ति सरकारी अस्पताल में इलाज नहीं कराना चाहता और न ही अपने बच्चों को सरकारी स्कूलों में पढ़ाना चाहता है। ऐसे माहौल के बीच झारखंड के आदिवासी बाहुल्य गोड्डा में तैनात आईएएस अफसर ने अपना प्रसव कराने के लिए सरकारी अस्पताल को ही चुना। गोड्डा की डीसी किरण कुमारी पासी ने सदर अस्पताल में बच्चे को जन्म दिया है। बताया जा रहा है कि आईएएस अधिकारी किरण कुमारी पासी ने ऑपरेशन से बच्चे को जन्म दिया। अब जच्चा और बच्चा पूरी तरह स्वस्थ बताए जाते हैं।

सरकारी अस्पताल में प्रसव कराने के किरण कुमारी के फैसले की देशभर में सराहना हो रही है। सोशल मीडिया पर इनकी तस्वीर काफी वायरल हो रही है। लोग इसे समाज के लिए नजीर बता रहे हैं। आज के जमाने में जहां सक्षम लोग साधारण सर्दी-जुकाम का उपचार कराने के लिए भी महंगे निजी अस्पतालों का रुख करते हैं, वहां एक सक्षम अधिकारी के सरकारी अस्पताल में प्रसव कराने के फैसले से समाज में सकारात्मक संदेश जाएगा।

चिकित्सकों के अनुसार ऑपरेशन के कारण किरण कुमारी को दो दिन चिकित्सकीय निगरानी में रखा जाएगा। इसके बाद उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी जाएगी। गोड्डा डीसी के मां बनने की खबर के बाद कई अधिकारियों ने सरकारी अस्पताल पहुंचकर उनका का हाल जाना। लोगों ने गोड्डा डीसी के कदम की सराहना करते हुए यह विश्वास जताया कि आने वाले समय में सरकारी सिस्टम पर लोग भरोसा करेंगे।

Gyan Dairy

बताया जाता है कि आईएएस किरण कुमारी पासी दूसरी बार मां बनी हैं। उनके पहले बच्चे का जन्म भी ऑपरेशन के जरिए ही हुआ था। इसका ध्यान रखते हुए डॉक्टरों की टीम ने प्रसव में पूरी सतर्कता बरती। प्रसव के समय किरण के पति पुष्पेंद्र सरोज भी मौजूद थे। बता दें कि तेजतर्रार और जनता की समस्याओं को लेकर संवेदनशील अधिकारियों में गिनी जाने वालीं आईएएस किरण के पति पुष्पेंद्र गोड्डा के ही पुनसिया स्थित कृषि महाविद्यालय में डीन हैं।

Share