वित्त मंत्री ने संसद में दिया जवाब, इस बार पीएम किसान सम्मान निधि में 10,000 करोड़ रुपये कम आवंटित हुए

नई दिल्ली। केन्द्र सरकार ने इस वित्तीय वर्ष में पीएम किसान सम्मान निधि के तहत 10,000 करोड़ रुपये कम आवंटित किए हैं। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने संसद में कहा कि पश्चिम बंगाल सरकार ने छोटे एवं सीमांत किसानों की सूची नहीं दी है। इस वजह से ये निर्णय लिया गया है।

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने संसद में कहा कि सरकार पर साठगांठ वाले पूंजीवाद का आरोप लगाना गलत है। गांवों में सड़कों का निर्माण, हर गांव में बिजली, छोटे किसानों के खातों में पैसा डालने जैसी महत्वाकांक्षी योजनाएं गरीबों के लिए है न कि पूंजीपतियों के लिए। मोदी सरकार पर विपक्ष अडाणी-अंबानी जैसे उद्योगपतियों से साठगांठ का आरोप लगाता रहता है।

Gyan Dairy

वित्त मंत्री ने कहा कि बजट में किए गए प्रावधान आत्मनिर्भर भारत को बढ़ावा देने के लिए हैं। बजट में तात्कालिक सहायता के साथ साथ मध्यम और दीर्घ अवधि में सतत आर्थिक वृद्धि बनाये रखने पर ध्यान दिया गया है। उन्होंने विपक्ष को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि आम आदमी की भलाई के लिए हमारी सरकार की योजनाओं के बावजूद विपक्ष एक झूठी कहानी बना रहा है कि सरकार ताकतवर पूंजीपतियों के लिए काम कर रही है। उन्होंने कहा कि अवसंरचना निर्माण, निरंतर सुधार, खातों में पारदर्शिता बजट की विशेषताएं हैं। बजट में किए गए प्रोत्साहन प्रावधान आर्थिक पुनरूद्धार के लिए, महामारी के दौरान किए गए सुधार वृद्धि को पटरी पर लाने के लिए किए गए।

Share