चौथी किश्त: वित्त मंत्री बोलीं- निवेश भी लाना है और रोजगार भी बढ़ाने हैं

नई दिल्ली। कोरोना संकट के बीच केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार ने 20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज की घोषणा की। राहत पैकेज की चौथी किश्त का ऐलान कर रही वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को कहा कि प्रधानमंत्री का सुधारों को लेकर बेहतरीन रिकॉर्ड रहा है। उन्होंने कहा कि हमें कॉम्पटीशन के लिए तैयार रहना है। निर्मला ने कहा कि सरकार का फोकस इज ऑफ डूइंग पर है और डीबीटी, जीएसटी सुधार की दिशा में अहम हैं। उन्होंने कहा कि हमें देश में निवेश भी लाने हैं और रोजगार भी बढ़ाने हैं। विदेशी निवेश के लिए भारत में अच्छा अवसर है। वित्त मंत्री ने कहा कि कई सेक्टर आज भारी चुनौतियों का सामना कर रहे हैं।

वित्त मंत्री ने कहा कि हमने बैंक सुधारों को लेकर फैसला देशहित में लिया। कई सेक्टरों में मजबूती के लिए नीतिगत बदलाव की जरूरत है। निर्मला ने कहा कि आज ग्रोथ, निवेश बढ़ाने वाले आर्थिक सुधारों की घोषणा की जाएगी। उन्होंने कहा कि आत्मनिर्भर भारत कई सेक्टर में नियमों के सरलीकरण और सुधार की आवश्यकता है। इससे पहले निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को खेती और इससे जुड़ी गतिविधियों को लेकर 11 अहम कदमों के ऐलान किए थे। इससे पहले वह एमएसएमई सेक्टर, टैक्सपेयर्स, सैलरीड क्लास, फेरीवाले और प्रवासी मजदूरों के लिए अहम घोषणाएं कर चुकी हैं।

Gyan Dairy

वित्तमंत्री ने अहम ऐलान करते हुए कहा कि कोयला क्षेत्र में कॉमर्शियल माइनिंग शुरू की जाएगी और सरकार का एकाधिकार खत्म होगा। कोयला क्षेत्र के लिए 50 हजार करोड़ रुपये दिए जाएंगे। सरकार खुली नीलामी कराएगा। कोयला क्षेत्र के कारोबारियों के लिए नियमों में ढील दी जाएगी। कोयला क्षेत्र में 500 नए ब्लॉक की नीलामी की योजना है। निर्मला सीतारमण ने खनिज सेक्टर में अहम ऐलान करते हुए कहा कि 500 माइनिंग ब्लॉक्स की नीलामी होगी। खनिज सेक्टर में विकास की बड़ी योजना है। माइनिंग लीज का ट्रांसफर भी हो पाएगा। माइनिंग सेक्टर में निजी निवेश को बढ़ावा दिया जाएगा।

Share