गंगा दशहरा: लॉकडाउन में घर पर ऐसे करें मां गंगा की आराधना, मिलेगा अक्षय पुण्य का लाभ

नई दिल्ली। पुराणों के अनुसार ज्येष्ठ माह के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को गंगा दशहरा महापर्व मनाया जाता है। इस बार गंगा दशहरा सोमवार 1 जून को है। पुराणों में वर्णित है कि ज्येष्ठ माह की शुक्ल पक्ष दशमी तिथि को भागीरथ ने कठोर तपस्या से मां गंगा को धरती पर अवतरित किया था। मान्यता है कि गंगा दशहरा पर गंगा स्नान और दान करने से अक्षय पुण्य की प्राप्ति होती है। ज्येष्ठ माह में सबसे ज्यादा गर्मी पड़ने के कारण इसका महत्व काफी बढ़ जाता है। स्कंद पुराण में भी गंगा दशहरा का बहुत ज्यादा महत्व बताया गया है। इस साल कोरोना संकट के चलते लागू लॉकडाउन के कारण गंगा स्नान करना मुश्किल हो सकता है। ऐसे में आप चाहें तो घर पर ही गंगा दशहरा का पुण्य प्राप्त कर सकते हैं।

ऐसे करें मां गंगा को प्रसन्न

गंगा दशहरा पर पुण्य लाभ कमाने के लिए घर पर नहाते समय बाल्टी में गंगाजल की कुछ बूंदे डालकर स्नान करें।

स्नान करते समय गंगा मंत्र का जाप जरूर करें- गंगे च यमुने चैव गोदावरी सरस्वती। नर्मदे सिन्धु कावेरी जले अस्मिन् सन्निधिम् कुरु।। और ॐ नमो गंगायै विश्वरूपिण्यै नारायण्यै नमो नमः

Gyan Dairy

गंगा दशहरा के दिन स्नान के बाद किसी गरीब व्यक्ति को पानी से भरा हुआ घड़े का दान जरूर करना चाहिए।

गंगा दशहरा पर्व पर मौसमी फल को दान करने से शुभ फल की प्राप्ति होती है।
राहगीरों को पानी पीने की व्यावस्था करनी चाहिए। ऐसे करने से अक्षय फल की प्राप्ति होती है।

Share