अक्षय तृतीया पर खुलेंगे गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट

नई दिल्ली। गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट अक्षय तृतीया के दिन पौराणिक परंपरा अनुसार वैदिक मंत्रोच्चार के साथ तय शुभ मुहूर्त पर विधिवत खुलेंगे। कपाट खोलने को मंदिर समिति के पदाधिकारियों एवं तीर्थ पुरोहितों सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं। अब सिर्फ तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा रहा है।कोरोना संक्रमण को देखते हुए लॉक डाउन में गंगोत्री, यमुनोत्री धाम के कपाट खुलने के समय प्रशासन ने 21 लोगों को ही मंजूरी दी है। बेहद सीमित संख्या में लोग धाम खुलने के समय मौजूद रहेंगे। इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का भी पूरा ध्यान रखना होगा।

कपाट खुलने से पूर्व मां गंगा की उत्सव डोली आज (शनिवार) को अपने शीतकालीन प्रवास मुखबा से गंगोत्री धाम को प्रस्थान करेगी। जो रात्री विश्राम भैरव घाटी स्थित भैरव मंदिर में करेगी। यहां से 26 अप्रैल की सुबह आठ बजे मां गंगा की डोली गंगोत्री धाम पहुंचेगी। जहां विधिवत वैदिक मंत्रोच्चार के साथ दोपहर 12:35 पर सादगी पूर्ण व सोशल डिस्टेंस के साथ गंगोत्री धाम के कपाट छह माह को खोल दिए जाएंगे। दूसरी ओर 26 अप्रैल को सुबह 8:05 पर शनिदेव की डोली की अगुवाई में पारंपरिक वाद्य यंत्रों के साथ मां यमुना की डोली शीतकालीन प्रवास खरसाली से यमुनोत्री धाम को रवाना होगी। 11 बजे डोली यमुनोत्री धाम पहुंचेगी। जहां विधिवत कपाट खोले जाएंगे।

Gyan Dairy

मंदिर समिति के अध्यक्ष सुरेश सेमवाल ने बताया कि इस वर्ष आपदा प्रबंधन मंच से जुड़ी रेणुका समिति और केदान जन विकास समिति ने सजावट का काम किया है। दोनों धामों के मंदिरो को स्थानीय काश्तकारों के द्वारा तैयार किए गए ग्लेडियोलस से इस साज सज्जा के काम को किया जा रहा है। मुखबा से गंगोत्री धाम को निकलने वाली डोली यात्रा में इस बार आर्मी बैंड नजर नहीं आएगा। इसके स्थान पर इस बार स्थानीय वाद्ययंत्रों को शामिल किया गया है।

Share