मुंबई : घाटकोपर इमारत हादसा में हुई 12 लोगों की मौत, 9 घंटे बाद मलबे से जिंदा निकले दो लोग

मुंबई के घाटकोपर उपनगरीय इलाके में मंगलवार की सुबह एक जर्जर चार मंजिला आवासीय इमारत के ढहने से कम से कम 12 लोगों की मौत हो गई. मृतकों में पांच महिलाएं तथा तीन महीने की एक बच्ची भी शामिल हैं. दामोदार पार्क में ध्वस्त हुए साईं दर्शन इमारत के मलबे से 19 लोगों को जिंदा निकाला गया.

जानकारी के मुताबिक, सुबह 10.43 बजे के आस-पास साईं दर्शन इमारत अचानक ढह गई. बताया गया है कि इमारत में लगभग 12 परिवार रह रहे थे और निचले तल पर एक अस्पताल भी था. मुंबई अग्निशमन विभाग, बीएमसी बचाव दल, राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) और राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल (एसडीआरएफ) 14 दमकलों, बचाव वाहनों, एंबुलेंस, जेसीबी तथा मेटल कटर के साथ घटनास्थल पर पहुंच कर राहत और बचाव का काम किया.

खासबात यह रही कि इनमें दो लोगों को घटना के नौ घंटे बाद मलबे से जिंदा निकाला गया. मलबे में अभी और लोगों के दबे होने की आशंका है. पुलिस ने इस मामले में शिवसेना के एक नेता सुनील सिताप के खिलाफ मामला दर्ज किया है. उधर, घटना स्थल का दौरा करने के बाद मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि प्रभावित लोगों की हर संभव मदद की जाएगी और दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी.

बीएमसी आपदा नियंत्रण के मुताबिक, बचाए गए लोगों को इलाज के लिए विभिन्न अस्पतालों में भर्ती कराया गया है. घायलों में दो दमकलकर्मी हैं. बताया गया है कि अस्पताल शिवसेना के स्थानीय नेता का था और इसमें मरम्मत का काम चल रहा था.

Gyan Dairy

बचावकर्मियों ने तकरीबन 9 घंटे बाद मलबे में से किशोर खनचंदानी और ऋत्वी शाह को जिंदा निकाल लिया. वे गंभीर रूप से घायल हैं. यह इमारत बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) के खतरनाक इमारकों की सूची में शामिल थी और छह महीने पहले ही उसे खाली करने का नोटिस जारी किया गया था.

उधर, राष्ट्रपति के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने के लिए आए मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस देर शाम मुंबई पहुंचे और वे सीधे घटना स्थल पर गए. वहां उन्होंने राहत कार्यों का जायजा लिया तथा प्रभावित परिवारों को हर संभव मदद का आश्वासन दिया.

Share