विश्वविद्यालयों में चल रहे दलित और अल्पसंख्यक विभागों को बंद करने की तैयारी में सरकार

यूजीसी ने 12वीं पंचवर्षीय योजना के तहत खोले गए केंद्रो के फंड को फिर से रिन्यू कर दिया है। उम्मीद की जा रही थी कि 13वीं पंचवर्षीय योजना में इन केंद्रों को दोपारा रिन्यू कर दिया जाएगा। लेकिन यूजीसी ने इस तरह के सभी विश्वविद्यालयों को सर्कुलर जारी किया है और कहा है कि इन केंद्रों को मिलने वाला सरकारी फंड 31 मार्च से नहीं दिया जाएगा।

भारत सरकार की संस्था विश्वविद्यालय अनुदान आयोग यूजीसी ने विश्वविद्यालयों में चलने वाले सोशल डिस्क्रिमिनेशन रिसर्च सेंटर्स को दिए जाने वाले फंड में कटौती करने का आदेश दिया है।यूजीसी 31 मार्च के बाद उन विश्वविद्यालयों के फंड में कटौती करेगी जिसकी स्थापना 11वीं पंचवर्षीय योजना के तहत हुई थी।

सूत्रों के मुताबिक, ये सभी आदेश उन सभी केंद्रों को भेज दिया गया है जिन्हें विश्वविद्यालय के रूप में विकसित नहीं किया जा सका है। दिल्ली विश्वविद्यालय के अंबेडकरवादी और राजनीति विज्ञान के प्रोफेसर एन. सुकुमार ने बताया है कि बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर की विचारधारा मानने वाले दलित रिसर्चर्स की विडंबना है कि इन केंद्रों को बंद किया जा रहा है।

Gyan Dairy

मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने यूजीसी की अवर सचिव सुषमा राठौर को एक संदेश भेजकर इसकी जानकारी दी है। उसमें कहा गया है कि 12वीं पंचवर्षीय योजना के अंत में इन विश्वविद्यालयों को यूजीसी की तरफ से कोई सहायता राशि नहीं दी जाएगी। इसमें यह भी कहा गया है कि 12वीं पंचवर्षीय योजना के बाद यूजीसी इस समावेशी नीति के लिए जिम्मेदार नहीं होगा और न ही संस्था इसके किसी मुद्दे पर विचार करेगा।

उन्होंने कहा कि सरकार अब इसके जगह पर वैदिक शिक्षा पर फंड खर्च करेगी। बता दें कि जेएनयू में भी इस तरह के एक केंद्र को बंद करने का आदेश दिया गया है। हालांकि सरकार का यह आदेश प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उस वक्तव्यों के विरुध है जिसे उन्होंने साहेब भीमराव अंबेडकर की 125 जयंती पर कहा था। उन्होंने कहा था कि सरकार दलितों को आगे बढ़ाने के लिए नई योजनाएं लागू करेगी।

Share