कोर्ट में उम्रकैद की सजा सुनते ही रेप का दोषी हुआ फरार, जानें पूरा मामला

भोपाल। मध्य प्रदेश के राजगढ़ जिले में अदालत ने दुष्कर्म के दोषी पाये गए युवक को आजीवन कारावास की सजा सुना दी। जज द्वारा सजा सुनाए जाने के बाद दोषी मुंशी व पुलिसकर्मियों को धक्का देकर फरार हो गया। विशेष न्यायाधीश डॉ अंजली पारे ने मानसिक रूप से कमजोर किशोरी के साथ दुष्कर्म के आरोपी जितेन्द्र को शुक्रवार को आजीवन कारावास की सजा सुनाई। अदालत द्वारा आजीवन कारावास की सजा सुनाए जाने के बाद रेप का दोषी जितेन्द्र अदालत में मुंशी को धक्का देकर फरार हो गया।

पुलिस ने बताया कि राजगढ़ थाने में दो अक्टूबर 2018 को पीड़िता के परिजनों ने शिकायत दर्ज कराई थी कि उनकी नाबालिग लड़की को बचपन में लकवा हो गया था इससे वह मानसिक तौर पर विकलांग हो गयी थी। बालिका का पेट फूला होने पर उसने परिजन को बताया कि 5-6 माह पहले जितेन्द्र ने उसके साथ बलात्कार किया था और तथा पेट में उसका गर्भ है।

श्रीवास्तव ने बताया कि पीड़िता की शिकायत पर पुलिस ने आरोपी के खिलाफ भादंवि की धारा 376 (बलात्कार) एवं पॉक्सो अधिनियम की संबधित धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया गया था। जांच के दौरान पीड़ित बालिका के बयान लिए गए तथा जांच के बाद अभियोग पत्र अदालत में पेश किया। उन्होंने बताया कि अदालत ने आरोपी जितेन्द्र को आजीवन करावास एवं दस हजार रुपए जुर्माने की सजा से दंडित किया है। सजा सुनाए जाने के बाद अभियुक्त जितेन्द्र अचानक न्यायालय कक्ष में मुंशी को धक्का देकर वहां से फरार हो गया। पुलिस जितेन्द्र की तलाश कर रही है।

Gyan Dairy

 

Share