UA-128663252-1

पाकिस्तान की जेल में बंद चार भारतीयों की रिहाई के लिए इस्लामबाद हाईकोर्ट पहुंचा भारतीय उच्चायोग

नई दिल्ली। पाकिस्तान की जेल में बंद चार भारतीय नागरिकों की रिहाई के लिए भारत सरकार ने इस्लामाबाद हाई कोर्ट में याचिका दायर की है। भारतीय उच्चायोग में प्रथम सचिव अर्पणा रे ने पाकिस्तान के तीन वरिष्ठ अधिवक्ताओं के माध्यम से इस्लामाबाद होई कोर्ट में याचिका दायर की है। भारत ने इन नागरिकों की रिहाई की मांग की है। जिन चार लोगों के रिहाई की मांग की गई है वे पाकिस्तान की सैन्य अदालय की ओर से सुनाई गई सजा पूरी कर चुकी है।

इनमें बिरजू डुंग डुंग, विज्ञान कुमार, सतीश भोग और सोनू सिंह का नाम शामिल है। ये लाहौर और कराची की जेल में बंद हैं। याचिका में कहा गया है कि सभी कैदियों ने पाकिस्तानी सैन्य अदालत की ओर से दी गई सजा को भुगत चुके हैं इसलिए इन्हें रिहा किया जाए। कोर्ट को बताया गया है कि कैदियों को पाकिस्तानी सेना द्वारा गिरफ्तार किया गया था और पाकिस्तान सेना अधिनियम और आधिकारिक गोपनीयता अधिनियम के तहत उनके खिलाफ आरोप लगे थे।

याचिका में कहा गया है कि कैदियों ने तर्क दिया था कि उन्होंने कोई अपराध नहीं किया है और गिरफ्तारी से लेकर आखिरी में दोष सिद्ध होने तक की पूरी कार्यवाही कानून प्रक्रिया का दुरुपयोग था। कैदियों की रिहाई की मांग करते हुए याचिका में पाकिस्तान के संविधान का हवाला दिया गया है जिसमें कहा गया है कि कोई भी व्यक्ति कानून के अनुसार जीवन और फ्रीडम से वंचित नहीं रहेगा।

Gyan Dairy

भारत ने कहा है कि उसने 18 मई को पाकिस्तान विदेश मंत्रालय के ऑफिस को औपचारिक रूप से अधिकारियों को याद दिलाने के लिए इन चार कैदियों की रिहाई के लिए अक्टूबर 2019 और मई 2020 के बीच पत्र लिखा था। इसमें कहा गया था कि इन चार भारतीय कैदियों को जल्द से जल्द रिहा किया जाए और भारत वापस भेजा जाए।

Share