आईएमए की चेतावनी, 15 दिन में माफी मांगे बाबा रामदेव, अन्यथा 1,000 करोड़ की मानहानि का केस

नई दिल्ली। प्रसिद्ध योगगुरू और पतंजलि के मुखिया बाबा रामदेव द्वारा ऐलोपैथी पर दिए गए बयान से नाराज इंडियन मेडिकल एसोसिएशन की उत्तराखंड इकाई ने उन्हें मानहानि का नोटिस भेजा है। आईएमए ने बाबा रामदेव से 15 दिन के भीतर माफी मांगने और बयान को सोशल मीडिया प्लेटफार्म से हटाने को कहा है। ऐसा न करने पर आईएमए ने बाबा रामदेव पर 1,000 करोड़ की मानहानि का दावा ठोकने की धमकी दी है।

आईएमए उत्तराखंड के प्रदेश सचिव डॉ अजय खन्ना ने बाबा रामदेव को छह पेज का नोटिस भेजा है। नोटिस में कहा गया है कि विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर बाबा के बयान से आईएमए उत्तराखंड से जुड़े दो हजार सदस्यों की मानहानि हुई है। उन्होंने कहा कि एक सदस्य (डॉक्टर) की 50 लाख की मानहानि के अनुसार कुल एक हजार करोड़ की मानहानि का दावा किया जाएगा।

आईएमए ने कहा कि बाबा रामदेव ने सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो के जरिए ऐलोपैथी डॉक्टरों की छवि धूमिल की है। अब उनके खिलाफ मानहानि के दावे के साथ साथ एफआईआर भी कराई जाएगी। इसके साथ ही नोटिस में बाबा रामदेव को नोटिस मिलने के 76 घंटे के अंदर दिव्य श्वासारि कोरोनिल किट के भ्रामक विज्ञापन को भी सभी प्लेटफार्म से हटाने को कहा गया है। डॉ खन्ना ने कहा है कि बाबा ने भ्रामक विज्ञापन के जरिए कोरोनिल को कोरोना संक्रमण के विरुद्ध प्रभावि दवाई व कोरोना वैक्सीन के दुष्प्रभावों से बचाने वाली दवाई बताया है। उन्होंने कहा कि इस मामले में भी बाबा के खिलाफ आईपीसी की धाराओं के तहत एफआईआर दर्ज कराई जाएगी।

Gyan Dairy

 

Share