राजद्रोह केस में सांसद शशि थरूर और पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने SC में लगाई अर्जी, जानें पूरा मामला

नई दिल्ली। कांग्रेस के दिग्गज नेता डॉ. शशि थरूर और वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई पर दिल्ली में गणतंत्र दिवस पर हुई हिंसा में एक प्रदर्शनकारी की मौत और हिंसा भड़काने को लेकर कई राज्यों में मामले में दर्ज किए गए हैं। इस प्रकरण में राजद्रोह का केस दर्ज होने के बाद शशि थरूर और राजदीप सरदेसाई ने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी लगाई है।

26 जनवरी को किसान ट्रैक्टर रैली में हुई हिंसा के बाद कांग्रेस सांसद शशि थरूर और पत्रकार राजदीप सरदेसाई समेत कई अन्य लोगों पर हिंसा भड़काने के आरोप में मुकदमे दर्ज किए गए हैं। इन मुकदमों को लेकर शशि थरूर और राजदीप ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। इन दोनों के अलावा वरिष्ठ पत्रकार मृणाल पांडे, जफर आगा, परेशनाथ, अनन्तनाथ ने भी अपने खिलाफ दर्ज मामलों को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है।

बता दें कि अभिजीत मिश्रा नामक व्यक्ति की शिकायत पर उत्तर प्रदेश पुलिस ने नोएडा के सेक्टर 20 थाने में शशि थरूर समेत सात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया था। एफआईआर में कहा गया कि इन नामजद लोगों ने 26 जनवरी को गलत पोस्ट किए और दंगा भड़काने की साजिश की। पुलिस को दी शिकायत में अभिजीत मिश्रा ने कहा कि वह परिवार के साथ सेक्टर 74 सुपरटेक केपटाउन में रहते हैं। उनका आरोप है कि 26 जनवरी को दिल्ली में हुई हिंसा के पीछे कांग्रेस सांसद शशि थरूर, पत्रकार राजदीप सरदेसाई, पत्रकार मृणाल पांडेय, पत्रकार जफर आगा, परेशनाथ, अनन्तनाथ, विनोद के जोश और एक अज्ञात हैं।

Gyan Dairy

शिकायतकर्ता ने कहा कि 26 जनवरी, 2021 को जानबूझकर कराए गए गए दंगों से अत्यंत दुखी हूं। एक षडयंत्र के तहत सुनियोजित दंगा कराने और लोक सेवकों की हत्या करने के उद्देश्य से इन लोगों ने राजधानी में हिंसा और दंगे कराए। इन लोगों ने दिल्ली में ट्रैक्टर पलटने की घटना में प्रदर्शनकारी की मौत की खबर को गलत तरीके से प्रसारित किया। इस खबर को इन्होंने अपने ट्विटर से साझा किया कि पुलिस द्वारा आंदोलनकारी एक ट्रैक्टर चालक की हत्या कर दी गई।

Share