इस बुरे दौर में ‘स्वर्ण भारत परिवार’ कोरोना योद्धा बनकर उभरा, दिन रात करते हैं जरूरतमंदो की मदद

नई दिल्ली। कोरोना संकट में ‘स्वर्ण भारत परिवार’ कोरोना योद्धा बनकर उभरा है। इस संस्था के सदस्य दिन राल जरूरतमंदो और गरीबों की मदद कर रहे है। ये संस्था लोंगों को राशन, जरूरत की सामाने तो मुहैया करवाती ही है, साथ ही अगर किसी को आर्थिक मदद की जरूरत होती है तो वो भी बढ़चढ़ कर करती हैं।

स्वर्ण भारत परिवार ने मंगलवार को देश मे किये जा रहे राहत कार्यों पर प्रेस रिलीज जारी की और बताया कि पूरे देश मे स्वर्ण भारत परिवार किस तरह से जरूरतमंदों की मदद में अग्रणी भूमिका निभा रहा है। बताया गया कि दिल्ली में कंट्रोल रूम की कमान स्वयं ट्रस्ट के राष्ट्रीय अध्यक्ष पीयूष पण्डित ने सम्भाल रखी है। हेल्थ से सम्बंधित कार्यक्रमो की ज़िम्मेदारी डॉक्टर सीमा मिश्रा देख रही हैं जबकि आर्थिक अनुदान समेत वालंटियर, प्रशाशन और सरकार से टाई अप करने की ज़िमेदारी दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष अजिता सिंह बखूबी निभा रही है। जरूरत की सामाग्री उचित समय पर उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी कॉर्डिनेटर अनुज शुक्ला के हाथों में है। वंदना शुक्ला अध्यक्षा, दिशा फाउंडेशन लगातार अपनी सेवा दे रही हैं। इसी तरह लखनऊ के प्रमुख समाज सेवी संतोष मिश्रा पूरे परिवार सहित भोजन लेकर सुबह शाम पार्क में बैठ जाते हैं और जरूरतमंदों को बड़े ही स्नेह से भोजन करवा के पूर्ण जानकारी देकर ही विदा करते हैं।

इस मौके पर स्वर्ण भारत परिवार के राष्ट्रीय अध्यक्ष पीयूष पण्डित ने कहा कि संतोष के विचार और सेवानीति से पूरे स्वर्ण भारत को प्रेरणा मिलती है। सेवानीति कि लखनऊ में स्वर्ण भारत के विकास में श्रीमंत जी का मुख्य योगदान हैं। इसके अलावा मलिन बस्तियों में भी प्रशासन की अनुमति से दो पुलिस के जवान लेकर क्षेत्र के विभिन्न स्थानों पर स्वर्ण भारत परिवार संस्था ने पका हुआ भोजन तथा कच्चा राशन भी वितरित किया और साथ में जिन लोगों को आर्थिक रूप से भी मदद की जरूरत पड़ी तो उसमें भी स्वर्ण भारत परिवार ने अपना पूरा योगदान दिया। स्वर्ण भारत इसी तरह से सभी जिलों में राज्यों में अपने वॉलिंटियर्स द्वारा किए गए कार्य की सराहना करता है।

Gyan Dairy

दूसरी तरफ स्वर्ण भारत परिवार की सदस्य गीता पांडेय ने मध्यप्रदेश में कमान सम्भाली है वो स्वयं पूरे मुहल्ले को सेनिटाइजर से प्रतिदिन सैनिटाइज कर रही हैं और प्रतिदिन 40 जरूरदमन्दों को भोजन करवा रही हैं, स्वर्ण भारत की स्प्रिचुल विंग की प्रदेश अध्यक्ष सनमप्रीत कौर ने इंदौर में हर दिन स्टूडेंट्स को राहत सामग्री पहुँचाने के कार्य मे लगी हैं, स्वर्ण भारत परिवार अब तक 16 राज्यों में अपनी उपस्थिति दर्ज करा चुका है और 1100 परिवार को डायरेक्ट राहत सामाग्री भेजने का कार्य कर चुका है पूरे लॉक डाउन तक एक लाख परिवार तक राहत सामग्री व कैश ट्रांसफर की सेवा प्रदान करने में लगा है।

जरूरी जानकारी देते हुए दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष अजिता सिंह ने कहा कोटा के स्टूडेंट्स का मुद्दा पूरे देश मे स्वर्ण भारत परिवार ने उठाया था जिसके पश्चात उत्तरप्रदेश सरकार ने मांग को मानते हुए 250 बसों से उत्तरप्रदेश के सभी छात्रों को विशेष व्यवस्था से उनके जिले तक ले जाया गया, अन्य सभी सरकारों से लगातार बात हो रही है। अन्य प्रदेशों से जल्द ही स्टूडेंट्स को उनके घर छोड़ा जाएगा और इस संस्था से जितने भी लोग जुड़े हुए हैं और वह इस समय जब देश एक बहुत बड़ी आपदा से जूझ रहा है, ऐसे समय में अपनी सेवा नीति का परिचय दे रहे हैं।

Share