रिपोर्ट के अनुसार आतंकियों का तीसरा सबसे बड़ा निशाना है भारत

भारत आतंकियों का तीसरा सबसे बड़ा निशाना है। यह बात यूएस स्टेट डिपार्टमेंट के कॉन्ट्रैक्ट पर काम करने वाली आतंकवाद से जुड़े आंकड़ों का विश्लेषण करने वाली संस्था रिपाेर्ट से पता चली है। इसके मुताबिक, आतंकी हमलों के मामले में इराक और अफगानिस्तान के बाद भारत तीसरे नंबर पर है। इससे पहले पाकिस्तान तीसरे नंबर पर था। यूएस स्टेट डिपार्टमेंट की रिपाेर्ट में कहा गया है कि हमलों में मरने और घायल होने वालों की संख्या पाकिस्तान से ज्यादा भारत में है।

इस रिपाेर्ट में नक्सलियों को दुनिया का तीसरा सबसे घातक आतंकी संगठन बताया गया है, जाेकि बोको हराम से भी ज्यादा घातक है। पहले नंबर पर आईएस है और दूसरे पर तालिबान है। बीते साल हुए 334 आतंकी हमलों के पीछे माओवादियों का हाथ बताया गया। इनमें 174 लोगों की जान गई और 141 घायल हुए। साल 2016 में भारत में हुए आतंकी हमलों में से आधे से ज्यादा जम्मू-कश्मीर, छत्तीसगढ़, मणिपुर और झारखंड में हुए। इतना ही नहीं, जम्मू-कश्मीर में होने वाले आतंकी हमले बीते साल 93 प्रतिशत बढ़ गए हैं। हालांकि, भारतीय गृह मंत्रालय की रिपोर्ट के मुताबिक राज्य में आतंकी गतिविधियां 54.81 प्रतिशत बढ़ी हैं।

Gyan Dairy

रिपाेर्ट के मुताबिक, साल 2016 में दुनियाभर में कुल 11 हजार 72 आतंकवादी हमलों को अंजाम दिया गया, जिनमें से भारत में 927 (16 प्रतिशत) हमले हुए। साल 2015 में भारत में यह संख्या 798 थी। वहीं साल 2015 में घायलों की संख्या 500 थी जबकि 2016 में यह बढ़कर 636 हो गई। वहीं, दूसरी तरफ पाकिस्तान में आतंकी हमलों की संख्या 2015 के मुकाबले 2016 में 27 प्रतिशत कम हुई है। 2015 में जहां पाकिस्तान में 1010 आतंकी हमलों को अंजाम दिया गया वहीं 2016 में 734 हमले हुए।

Share