सीज़फायर उल्लंघन में भारतीय जवान सुधीश कुमार शहीद हो गए.

सर्जिकल स्ट्राइक और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर लगातार घिरने के बाद पाक तिलमिलाया हुआ है. इसी चक्कर में वे लगातार गलत हरकत करने पर उतारू है. राजौरी के नौशेरा सेक्टर से सटी एलओसी पर रविवार को सुबह और शाम को पाकिस्तान की तरफ से भारी गोलीबारी हुई. भारतीय सेना ने भी इसका जवाब दिया लेकिन शाम को हुई पाकिस्तान की फायरिंग में सेना के सिपाही सुधीश कुमार को लगी एक गोली घातक साबित हुई और वे शहीद हो गए.

photo-armyd

जम्मू-कश्मीर के राजौरी में पाकिस्तानी की ओर से किए गए सीज़फायर उल्लंघन में भारतीय जवान, सुधीश कुमार शहीद हो गए. वे एलओसी पर तैनात थे. पाकिस्तान ने बीते 24 घंटे में दो बार एलओसी पर सीजफायर उल्लंघन किया है. इसी की वजह से सुधीश को अपनी जान  गंवानी पड़ी. सुधीश संभल जिले के रहने वाले थे. उनका पार्थिव शरीर आज उनके गांव पहुंचेगा.

24 साल के सुधीश कुमार उत्तर प्रदेश के संभल जिले में नखासा इलाके के पंसुखा गांव के रहने वाले थे. सुधीश कुमार 6 राजपूत रेजीमेंट के सिपाही थे. सुधीश कुमार अपने पीछे अपनी पत्नी और मां को छोड़ गए हैं. सुधीश की शहादत की खबर सेना ने उनके परिवार को दे दी है.

Gyan Dairy

राजौरी के नौशेरा में एलओसी पर जहां पाकिस्तान की तरफ से फायरिंग की गई वहां सेना की अग्रिम पोस्ट है. यहां हर समय सेना के जवान निगरानी रखते हैं. जम्मू कश्मीर में LOC 740 किलोमीटर लंबी है. नौशेरा में LOC का इलाका 35 से 40 किलोमीटर लंबा है. नौशेरा के सामने ही एलओसी पार करके पीओके का भिंबर इलाका पड़ता है, जहां पर सेना ने 28 सितंबर की रात सर्जिकल स्ट्राइक करके आतंकियों को मार गिराया था.

पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में भारतीय सेना के सर्जिकल हमले के बाद से पाकिस्तान की ओर से एलओसी पर लगातार सीजफायर का उल्लंघन किया जा रहा है. रक्षा जानकार कह रहे हैं कि सर्जिकल स्ट्राइक पाकिस्तान के लिए काफी नहीं है. उनका मानना है कि पाक को और करारा जवाब मिलना चाहिए.

 

Share