कपड़े उतार कर जासूस से राज उगलवाती थीं ISI की एजेंट, पूछताछ में हुआ खुलासा

जयपुर। पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई को भारतीय सेना की गोपनीय जानकारी देने वाला जासूस सुरक्षा बलों के हत्थे चढ़ गया है। जासूस को जैसलमेर की पोकरण फायरिंग रेंज से सटे लाठी गांव से गिरफ्तार कर लिया गया है। जासूस की पहचान सत्यनारायण पालीवाल के रूप में हुई है। पूछताछ में आरोपी ने बताया कि आईएसआई ने उसे अपने हनीट्रैप के जाल में फंसाया था।

सत्यनारायण से सोशल मीडिया पर आईएसआई की कई लड़कियां लाइव चैट करती थीं। चैट करते समय लड़कियां अपने कपड़े उतारतीं। लड़कियों को कपड़े उतारते देख सत्यनारायण देश की सुरक्षा से जुड़ी सारी खुफिया जानकारी उन्हें दे देता। पता चला है कि सूचना देने के बदले सत्यपाल को कभी भी रुपये नहीं मिले। पूछताछ में खुलासा हुआ कि वह करीब सालभर से सेना से जुड़े राज और अन्य महत्वपूर्ण जानकारी आईएसआई को दे रहा था।

लाठी गांव के आसपास के कई गांवों सत्यनारायण पालीवाल नेताजी के नाम से मशहूर है। ऐसे में उस पर कोई भी शक नहीं कर सकता था क्योंकि स्थानीय राजनेताओं और पुलिस प्रशासन में उसकी अच्छी-खासी पैठ थी। इन सब वजहों के चलते आईएसआई की महिला एजेंट ने उसे हनी ट्रैप के जाल में फांस लिया।

Gyan Dairy

बताया जा रहा है कि सेना लाठी गांव के पास ही में स्थित फायरिंग रेंज की हर गतिविधि की जानकारी सरपंच को देती है। सेना से सूचना पाकर सरपंच गांव वालों को उस क्षेत्र से दूर रहने के लिए सचेत कर सके। सत्यनारायण के भाई की पत्नी गांव की सरपंच रह चुकी हैं। उस समय सत्यनारायण सरपंच प्रतिनिधि की भूमिका निभाता था। ऐसे में वह सेना की हर गतिविधि की जानकारी लड़कियों के जाल में फंसकर उन्हें भेजता रहता था।

पूछताछ में सत्यनारायण ने बताया कि 5 लड़कियां एक ग्रुप बनाकर लगातार उससे बात करती थीं। लाइव चैटिंग के दौरान ये लड़कियां एक के बाद एक सत्यनारायण के सामने अपने कपड़े उतारने लगतीं। ऐसे में वह खुद पर काबू नहीं रख पाया और सेना से जुड़ी महत्वपर्ण जानकारी उन्हें देने लगा। इन पांच लड़कियों में से एक खुद को सोनिता कुमारी बताने वाली यह दावा करती थी कि वह एक प्रतिष्ठित हिन्दी दैनिक समाचार पत्र की संपादक है। शेष चार लड़कियां उसके यहां काम करने वाली पत्रकार हैं।

Share