जेबीटी भर्ती घोटाला: हरियाणा के पूर्व सीएम ओमप्रकाश चौटाला ने पूरी की 10 साल की सजा

चंडीगढ़। हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला ने दस साल की सजा पूरी कर ली है। जेबीटी (जूनियर बेसिक ट्रेनिंग) भर्ती घोटाले में सजा पाने के बाद चौटाला तिहाड़ जेल में बंद थे। पूर्व मुख्यमंत्री के वकील अमित साहनी ने बताया कि कल रात को चौटाला की सजा पूरी हो गई है। अब कुछ कागजी कार्रवाई के बाद उनकी रिहाई के आदेश जारी हो जाएंगे।

ओम प्रकाश चौटाला अभी पेरोल पर जेल से बाहर ही हैं। अब उन्हें दोबारा जेल जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। सजा होने से कल तक सरकारी छूट समेत सभी मिलाकर ओम प्रकाश चौटाला की सजा पूरी हो गई है। जेबीटी भर्ती घोटाले में 2013 में पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला को 10 साल की सजा सुनाई गई थी। इससे पहले दिल्ली हाईकोर्ट ने शिक्षक भर्ती घोटाला मामले में सजा काट रहे पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला को रिहा करने के मुद्दे पर दिल्ली सरकार को संबंधित रिकॉर्ड पेश करने का निर्देश दिया था। अदालत ने चौटाला की पैरोल अवधि भी 12 अप्रैल तक के लिए बढ़ा दी थी।

ओमप्रकाश चौटाला ने अपनी उम्र और दिव्यांगता के आधार पर जेल से रिहाई की मांग की थी। इससे पहले दायर याचिका में चौटाला ने केंद्र सरकार के 18 जुलाई, 2018 की अधिसूचना का हवाला दिया था। अधिसूचना के तहत 60 साल से ज्यादा उम्र पार कर चुके पुरुष, 70 फीसदी वाले दिव्यांग व बच्चे अगर अपनी आधी सजा काट चुके हैं तो राज्य सरकार उसकी रिहाई पर विचार कर सकती है।

Gyan Dairy

याचिका में चौटाला ने कहा था कि उनकी उम्र 86 साल की हो गई है और भ्रष्टाचार के मामले में वे सात साल की सजा काट चुके हैं। चौटाला ने दावा किया था कि वह अप्रैल 2013 में 60 फीसदी दिव्यांग हो चुके थे। इसके बाद जून 2013 में पेसमेकर लगाए जाने के बाद से वह 70 फीसदी से ज्यादा दिव्यांग हो चुके हैं।

Share