पश्चिम बंगाल में बीजेपी को चुनौती देगी जेडीयू, 75 सीटों पर खड़े होंगे उम्मीदवार

नई दिल्ली। बिहार में बीजेपी के सहयोग से सत्ता संभाल रहे नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू अब पश्चिम बंगाल का विधानसभा चुनाव अकेली ही लड़ेगी। नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू पश्चिम बंगाल में 75 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतार सकती है। जेडीयू के नेता गुलाम रसूल बलयावी ने साफ कहा कि 2021 में होने वाले पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में पार्टी 75 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेगी।

ऐसे में अगर जेडीयू पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में कूद जाती है तो बीजेपी को बड़ा नुकसान हो सकता हैं। बीजेपी के वोट बंटने का सीधा फायदा ममता बनर्जी की पार्टी टीएमसी को मिलेगा। माना जा रहा है कि बिहार विधानसभा चुनाव में चिराग पासवान की पार्टी एलजेपी ने जेडीयू के खिलाफ उम्मीदवार उतार दिए थे। इससे जेडीयू को कई सीटों का नुकसान उठाना पड़ा था। जेडीयू को ये लगता है कि एलजेपी ने बीजेपी के इशारे पर उसका नुकसान किया है।

माना जाता है कि बिहार से सटे पश्चिम बंगाल की कई विधानसभा सीटों पर जेडीयू का पर्याप्त असर है। हालांकि इसकी उम्मीद कम ही है कि जेडीयू पश्चिम बंगाल में कोई निर्णायक असर डाल सकती है, लेकिन उसके उम्मीदवार बीजेपी को हराने में जरूर सफल हो सकते हैं।

Gyan Dairy

जनता दल यूनाइटेड की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक आगामी 26 दिसम्बर को पटना में होने जा रही है। इस बैठक में पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार समेत सारे दिग्गज नेता मौजूद रहेंगे। इसी बैठक में पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव लड़ने के प्रस्ताव पर भी चर्चा होगी। माना जा रहा है कि कार्यकारणी इस फैसले पर अंतिम मुहर लगा देगी।

Share