लाल किले पर खालसा ध्वज फहराने वाले जुगराज का परिवार गांव छोड़कर भागा, जानें वजह

नई दिल्ली। गणतंत्र दिवस के मौके पर दिल्ली में किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान लाल किले पर निशान साहिब फहराने वाले जुगराज सिंह की करतूत पर वीडियो वायरल करके गर्व करने वाले उसके मां बाप अब पुलिस के डर से अपना घर और गांव छोड़कर भाग निकले हैं। पहले जुगराज का परिवार लाल किले के पर निशान साहिब फहराने को लेकर उत्साहित था। अब वही परिवार कार्रवाई के डर से जुगराज के माता.पिता गांव छोड़कर भाग चुके हैं।

ऐसा दावा किया जा रहा है कि तरण तारण स्थित वान तारा सिंह गांव के रहने वाले 23 साल के जुगराज ने किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान लाल किले पर निशान साहिब का झंडा फहराया था। बता दें कि लाल किले की प्राचीर पर ठीक उस जगह पर निशान साहिब और किसान संगठनों के झंडे फहराए गए, जहां हर साल स्वतंत्रता दिवस पर प्रधानमंत्री तिरंगा फहराते हैं।

Gyan Dairy

इस बीच ऐसी खबर है कि झंडा फहराने वाले जुगराज के माता’-पिता पुलिस और मीडिया का सामना करने के लिए उसके दादा.दादी को अकेला छोड़कर गांव से भाग गए हैं। मंगलवार को घटना के बाद जब जुगराज के दादा मेहल सिंह काफी उत्साहित थे। हालांकि बुधवार को दिन चढ़ते ही उनका उत्साह डर में बदल गया। मंगलवार को जब उनसे पूछा गया कि पोते की इस हरकत से आपको कैसा लगा तो जुगराज के दादा ने कहा कि बड़ी कृपा है बाबे दी बहुत सोहन है। हालांकि बुधवार को इसी सवाल पर उनका जवाब था कि हमें नहीं पता कि यह क्या हुआ या कैसे हुआ। जुगराज एक सभ्य लड़का है जिसने हमें शिकायत करने का कोई कारण नहीं दिया।

Share