प्रेग्नेंट मुस्लिम लड़की को जिंदा जला दिया गया, ये बेहद शर्मनाक है

एक प्रेग्नेंट मुस्लिम लड़की को फैमिली मेंबर्स ने जिंदा जला दिया। बताया जा रहा है कि लड़की ने गांव के ही एक दलित युवक से शादी कर ली थी, जिससे नाराज होकर फैमिली मेंबर्स ने उसे जला दिया। मामला बीजापुर के गुंडनकाला गांव का है। वुमन एक्टिविस्ट ने इस मामले को ऑनर किलिंग बताया है। गोवा जाकर की थी शादी.

बानू का परिवार दलित से शादी करवाने के लिए तैयार नहीं था। जिसके बाद बानू और सायाबन्ना ने गोवा जाकर शादी करने का फैसला किया।

21 साल की बानू बेगम को गांव में ही रहने वाले दलित सायाबन्ना शरनप्पा कोन्नूर (24) से प्यार हो गया था।

फैमिली मेंबर्स बानू को घसीटते हुए पुलिस स्टेशन भी ले गए थे ताकि सायाबन्ना के खिलाफ POCSO एक्ट में उसके खिलाफ केस दर्ज कराया जा सके।

लेकिन, दोनों ही परिवारों ने इस शादी को मंजूर करने से इनकार कर दिया।

3 जून को बानू और सायाबन्ना गोवा से लौटे। बानू तब प्रेग्नेंट थी और उसे लगा कि इस हालत में उसके घरवाले बच्चे की खबर सुनकर शादी को मंजूर कर लेंगे।

जब वो पुलिस को लेकर लौटा, तबतक बानू के परिवार वालों ने उसे जला दिया था।

Gyan Dairy

दोनों परिवारों के बीच शादी को लेकर विवाद हुआ और सायाबन्ना की जमकर पिटाई की गई। सायाबन्ना किसी तरह से अपनी जान बचाकर भागा, उसके पूरे शरीर पर काटे जाने के निशान थे।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस वारदात में बानू की मां, उसकी बहन, भाई और उसके साले को अरेस्ट कर लिया गया है।

अभी ऑनर किलिंग के मामलों का ट्रायल मर्डर के तहत किया जाता है। ये जरूरी है कि ऑनर किलिंग के लिए IPS में स्पेशल सेक्शन हो, पार्लियामेंट में इसके लिए तुरंत कानून बनाना चाहिए।

वुमन एक्टिविस्ट आभा सिंह ने कहा, ऑनर किलिंग के मामले दिन-ब-दिन बढ़ते जा रहे हैं। साउथ इंडिया हो या फिर नॉर्थ इंडिया ये मामले बढ़ रहे हैं। धर्म के नाम पर भारतीय समाज बंट रहा है। सबसे बुरी बात ये है कि अभी तक सरकार और पॉलिटिशियंस हॉनर किलिंग के लिए स्पेसिफिक कानून नहीं ला पाए हैं।

एक्टिविस्ट निर्मला सामंत ने कहा कि इस मामले में सख्त कदम उठना चाहिए, ताकि समाज को एक कड़ा संदेश दिया जा सके।

Share