केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान का बड़ा बयान, कहा- कृषि कानूनों से कॉर्पोरेट घराने होंगे लाभांवित

तिरुवनंतपुरम। अपने बेबाक बयानों से अक्सर चर्चा में रहने वाले केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने शुक्रवार को विधानसभा के बजट सत्र की शुरुआत में अपने अभिभाषण में केंद्र द्वारा पारित विवादित कृषि कानूनों की खुलकर निंदा की। राज्यपाल ने कहा कि कृषि कानूनों से नियंत्रित बाजारों का महत्व कम होगा तथा कॉर्पोरेट घरानों को फायदा पहुंचेगा।

लेफ्ट डेमोक्रेटिक फ्रंट की सरकार के नीति संबोधन के दौरान राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने केंद्र सरकार की नीतियों और जांच एजेंसियों की आलोचना वाले हिस्सों को भी पढ़ा। राज्यपाल ने राज्य सरकार की योजनाओं के खिलाफ विभिन्न आरोपों की जांच कर रही केंद्रीय एजेंसियों पर भी हमला बोला और कहा कि उन्होंने संविधान में तय सीमा पार कर दी है।

बता दें कि आरिफ मोहम्मद खान केंद्र का खुलेआम समर्थन करने में हिचकते नहीं हैं लेकिन राज्य सरकार की नीतियों का उल्लेख करते हुए उन्होंने अपने भाषण में कहा कि इस तरह की स्थिति में सहयोगात्मक संघवाद अपना आशय खो देगा तथा महज नाम का रह जाएगा।

Gyan Dairy

राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने कृषि कानूनों पर चर्चा करने के लिए 23 दिसंबर को सदन की बैठक बुलाने की वाम सरकार की मांग को पहले खारिज कर दिया था। गौरतलब है कि केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ केरल विधानसभा ने सर्वसम्मति से 31 दिसंबर को एक प्रस्ताव पारित कर इन्हें तत्काल प्रभाव से वापस लेने की मांग की थी।

Share