किसान आंदोलन: ट्रैक्टर रैली के बाद संसद कूच करेंगे किसान, एक फरवरी को पैदल मार्च का ऐलान

नई दिल्ली। नए कृषि कानूनों को लेकर किसानों का आंदोलन जारी है। दिल्ली बार्डर पर आंदोलन कर रहे किसानों ने सोमवार का बड़ा ऐलान किया है। किसान गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर मार्च के बाद एक फरवरी को संसद मार्च करेंगे। सोमवार को सिंधु बार्डर पर आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में ट्रैक्टर रैली पर पुलिस की आशंकाओं को भी किसानों ने दूर किया।

उन्होंने कहा कि दिल्ली के आउटर रिंग रोड पर हम शांतिपूर्ण तरीके से ट्रैक्टर रैली करेंगे और रैली करने के बाद अपने स्थान पर वापस आ जाएंगे। हमारा आंदोलन 26 जनवरी के बाद भी चलेगा। इतने दौर की वार्ता के बाद अब तक तीनों कृषि कानून रद्द नहीं किए गए हैं। 60 दिनों से किसान इतनी ठंडक में इन कानूनों को रद्द किए जाने की मांग को लेकर धरना देकर प्रदर्शन कर रहे हैं अब अगला कार्यक्रम संसद की ओर मार्च किए जाने का ही बनाया गया है।

कानून वहां से पास किया गया था तो हम अब वहां तक पैदल मार्च करके विरोध करेंगे। क्रांतिकारी किसान यूनियन के दर्शन पाल ने कहा कि एक फरवरी को हम दिल्ली के अलग-अलग जगहों से संसद की ओर पैदल मार्च करेंगे। इस दिन कैसे कहां जाना है, ये हम 28 जनवरी को तय करेंगे।

Gyan Dairy

वहीं, ट्रैक्टर रैली पर स्वराज इंडिया के योगेंद्र यादव ने कहा कि कल नौ जगहों से किसान गणतंत्र परेड निकलेगा। सिंघु बॉर्डर, टिकरी बॉर्डर, गाज़ीपुर बॉर्डर, धंसा बॉर्डर, चिल्ला बॉर्डर इसके अलावा 4 और बॉर्डर हैं जो कि हरियाणा बॉर्डर पर होगा। कल शाहजहांपुर से गणतंत्र परेड निकलेगा और यहां से 20-25 राज्यों की झांकियां निकलेगी। कल जो भी परेड होगा वो शांतिपूर्ण तरीके से होगा।

 

Share